विशेष कहानियाँ

कैसे रयूटो सवाडा वैश्विक मंच पर किस्मत चमकाने के लिए तैयार हुए

रयूटो सवाडा “ड्रैगन बॉय” को पता था कि उनका जीवन कम उम्र से ही मार्शल आर्ट के लिए समर्पित होगा। चाहे वो उस रास्ते से भटक जाएं, लेकिन फिर भी उन्हें इसी पर जाना तय था।

जापानी सब्मिशन विशेषज्ञ हाई स्कूल की शिक्षा पूरी करने के बाद सीधे पूर्णकालिक मार्शल कलाकार बन गए। हालांकि उनके अधिकांश साथी कॉलेज चले गए। जबकि उनके निर्णय का उन्हें प्रतिफल मिला। 24 वर्षीय अब ONE Championship के स्ट्रॉवेट डिवीजन में सबसे अधिक भरोसेमंद नए जुड़ने वालों में से एक हैं।

ONE: MARK OF GREATNESS में बोकांग मासुनेन “लिटिल जाइंट” के खिलाफ अपने अगले मैच से पहले इवॉल्व प्रतिनिधि बताते हैं कि वह एक बच्चे के रूप में अपने जुनून काे हासिल करने के लिए कैसे प्रेरित हुआ था? और कैसे उसने मैदान में खुद को सर्वश्रेष्ठ साबित करने के लिए अपना कौशल दिखाया।

दिग्गज से मिली प्रेरणा

सवाडा ने अपने माता-पिता, बड़े भाई और एक छोटी बहन के साथ टोक्यो के मेगुआरो क्षेत्र में पले-बडे़। “ड्रैगन बॉय” ने 4 साल की उम्र में कुश्ती शुरू कर दी थी जब उनके पिता उन्हें रॉयस ग्रेसी इन प्राइड देखने ले गए तो उनका सामना जापानी मिक्स्ड मार्शल आर्ट दिग्गज कज़ुशी सकुराबा से हुआ।

सकुराबा अपने खेल के अग्रणी और दिग्गज हैं, जिन्हें “आईक्यू रेसलर” के रूप में जाना जाता है, जो कि ताकत के साथ तकनीक के साथ बड़े-बड़े प्रतिद्वंदियों को हराने की क्षमता रखते हैं। उनकी लम्बाई सिर्फ 156 सेमी है। सवाडा अभी भी अपने नायक के पदचिन्हों पर चल रहा है।

वे कहते हैं कि “मैंने हमेशा उनकी ओर देखा और अब मैं भी उनकी तरह का फाइटर बनना चाहता हूं। वो छोटे कद के थे लेकिन बड़े-बड़े प्रतिद्वंदियों से भिड़ कर दर्शकों को उत्तेजित कर देते थे। मुझे हमेशा उनकी लड़ने की शैली ने आकर्षित किया है। एक सब्मिशन से जीत हासिल कर ऊंचाई पर पहुंचे।”

मार्शल आर्ट में उनकी दीक्षा तकाडा दोजो में आई, जो सकुराबा को पेश करने के लिए प्रसिद्ध थी। मैट पर अपने पहले दिनों से सवाडा की मानसिकता ने उन्हें तेजी से सफलता हासिल करने में मदद की।

उन्होंने कहा कि “कुश्ती के बारे में मुझे जो अच्छा लगा वह था कि आप किसी भी चीज़ के साथ शुरुआत कर सकते, और कोई इससे मज़बूत नहीं हो सकता और यदि आप इस पर टिके रहते हैं और हार नहीं मानते हैं, तो आप मजबूत और बेहतर बनेंगे।”

आदर और सम्मान

Japanese martial arts star Ryuto Sawada enters the Circle

सवाडा ने स्कूल में दोस्तों के साथ खेलते हुए आनंद लिया, लेकिन हमेशा स्कूल के बाद प्रशिक्षण के लिए तत्पर रहते थे- खासकर जब वह अपने देश की राजधानी में एक और प्रसिद्ध जिम में शामिल हुए।

आबे एनी कॉम्बैट क्लब (AACC) में उन्हें हिरोयुकी आबे और वूमन मिक्स्ड मार्शल आर्ट अग्रणी मेगुमी फ़ूजी द्वारा सिखाया गया, जिन्होंने उनकी मार्शल आर्ट्स प्रदर्शनों की सूची का विस्तार करने में मदद की।

हालांकि AACC में एक शीर्ष एथलीट होना काफी नहीं था। उनकी कोचिंग आदर और सम्मान पाने वाले और दूसरों को देने वाले एथलीटों के आसपास केंद्रित था। लोगों को सही ढंग से अभिवादन करना सीखना भी उतना ही महत्वपूर्ण था जितना कि सब्मिशन देना।

24 वर्षीय कहते हैं कि “वे दोनों महान कोच हैं जिन्होंने मुझे बहुत कुछ सिखाया है। उन्होंने हमेशा प्रशिक्षण में दृढ़ता और हर समय अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए प्रोत्साहित किया।”

उन्होंने मिश्रित मार्शल आर्ट में एक करियर का सपना देखा था। इसे हासिल करने के लिए अपनी शिक्षा जारी रखने के जापानी सांस्कृतिक आदर्श को तोड़ दिया। उन्होंने कहा कि “मैं हाई स्कूल के पहले वर्ष में कुश्ती क्लब में था। मुझे एहसास हुआ कि यह मार्शल आर्ट मिक्स्ड था जिसे मैं करना चाहता था। इसलिए मैंने स्कूल छोड़ दिया और AACC में प्रशिक्षण के लिए चला गया।”

वह स्वीकार करते हैं कि उसने अपने जीवन में इस स्तर के दौरान कई बार हार महसूस की, और सोचा कि क्या उसने सही निर्णय लिया है, लेकिन जल्द ही उन्होंने साबित कर दिया।

दिखाया लचीलापन

Ryuto Sawada (red shorts) defeats Ismael Bandiwan via Submission at ONE Warrior Series 3

AACC में सर्वश्रेष्ठ कोचिंग में उन्होंने अपने आक्रमणों को तेज करना जारी रखा और कराटे में एक ब्लैक बेल्ट हासिल की साथ ही साथ ब्राज़ीलियाई जिउ-जित्सु में एक परपल बेल्ट भी।

इससे उन्हें एक खतरनाक सब्मिशन कलाकार बनने में मदद मिली जब उन्होंने 2013 में अपनी पेशेवर शुरुआत की। उन्होंने पांच जीत में से चार फिनिश के साथ पाई। उन्होंने दो साल के बाद शूटो वर्ल्ड टाइटल में एक शॉट अर्जित किया, लेकिन जब उन्होंने भावी ONE स्ट्रॉवेट वर्ल्ड चैंपियन योशिताका नाइटो “नोबिता” को चुनौती दी तो वह कुछ कमजोर पड़ गए।

वो कहते हैं कि “हार से उबर पाना सबसे मुश्किल काम है। प्रेरित रखने के लिए और सकारात्मक बने रहना काफी मुश्किल होता है। मुझे अगले मैच के लिए कठिन प्रशिक्षण के माध्यम से हार की हताशा को दूर करने की आदत है।”

हालांकि उन्होंने जीत के साथ शीर्ष पर जाने का रास्ता हासिल किया। जब उन्होंने The Home Of Martial Arts में गोल्ड पर दावा करने के लिए योसुके सारूटा “द निंजा” को चुनौती दी।

हालांकि सवाड़ा ने खुद को धूल में मिला दिया और पहले की तरह ही ड्राइंग बोर्ड पर नीचे चला गया। उसमें हराने वाले पुरुषों के खिलाफ हिसाब चुकाने का दृढ़ संकल्प है। इस बार उसके पास एक मौका था जो उसे अगले स्तर तक ले जा सकता था।

गोल्ड का सपना

Ryuto Sawada wins his ONE debut at ONE: DREAMS OF GOLD

सवाडा को पिछले साल रिच फ्रेंकलिन की ONE वारियर सीरीज में शामिल होने के लिए चुना गया था। दो पहले-राउंड में सब्मिशन से जीत ने उन्हें मुख्य ONE रोस्टर पर पहुंचा दिया।

दुनिया के सबसे बड़े मार्शल आर्ट संगठन में अपने डेब्यू के बाद “ड्रैगन बॉय” फरवरी में सिंगापुर में इवॉल्व में शामिल होने के लिए चले गए, जहां उन्होंने अपने विश्व स्तरीय टीम के साथ अपने करियर को एक पायदान आगे बढ़ाया।

वे कहते हैं कि “मुझे अपने इवॉल्व टीम के साथियों और कोचों का बहुत समर्थन मिलता है। वे मुझे आगे बढ़ाने के लिए सब कुछ कर रहे हैं। मैं हमेशा उनका आभारी हूं।”

“द लायन सिटी” में उनकी कड़ी मेहनत का परिणाम तब मिला जब उन्होंने अगस्त में सर्किल के अंदर अपनी पहली उपस्थिति में अजीज कैलिम “द क्रूसर” के खिलाफ 69 सेकंड का एक सनसनीखेज फिनिश दिया।

अब वह तीन-मुकाबले जीतकर सफलता की उड़ान भर रहा है। उसे विश्वास है कि रैंक में ऊपर उठाना जारी रख सकता है और स्ट्रॉवेट डिवीजन में एक शो पेश कर सकता है।

वह कहते हैं कि “मेरी लड़ाई की शैली हमेशा फिनिश की तलाश के साथ खेल खत्म करने की है। वह शैली है जो मैं प्रशंसकों को दिखाना चाहता हूं और उन्हें खुश करना चाहता हूं। जब तक मैं ONE वर्ल्ड चैंपियनशिप बेल्ट को चुनौती नहीं दे सकता, तब तक एक-एक करके जीत हासिल करता रहूंगा।”

ये भी पढ़ें: ONE: MARK OF GREATNESS के सितारों के टॉप-5 सबमिशन

कुआलालंपुर | 6 दिसम्बर | ONE: MARK OF GREATNESS | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय सूची का अवलोकन करें| टिकट: http://bit.ly/onemarkgreatness19 | आधिकारिक माल की खरीदारी करें: bit.ly/ONECShop