विशेष कहानियाँ

कोयोमी मत्सुशिमा लम्बे प्रशिक्षण के बाद जी रहे हैं अपने सपने

कोयोमी “मौशिगो” मत्सुशिमा के लिए ONE: डॉन ऑफ हीरोज में ONE फ़ेदरवेट विश्व चैम्पियनशिप के लिए होने वाला मुकाबला उनके जीवन की सबसे बड़ी फाइट की पराकाष्ठा होगा।

अगले शुक्रवार, 2 अगस्त को योकोहामा निवासी अपने डिवीजन के सबसे प्रमुख प्रतियोगी मार्टिन “द सीटू-एशियन” गुयेन को चुनौती देंगे, लेकिन लम्बा प्रशिक्षण लेकन आने का मतलब है कि 26 वर्षीय मत्सुशिमा किसी भी चुनौती से नहीं घबराएंगे।

फिलीपींस के मनीला में मॉल ऑफ एशिया एरिना में मार्शल आर्ट्स के सबसे बड़े पुरस्कार के लिए अपनी लड़ाई में मत्सुशिमा एक बच्चे से लेकर बड़े होने के दौरान सीखे गए कराटे डोजो के सफर का वैश्विक मंच पर मार्ग दिखाने का प्रयास करेंगे।

मार्शल आर्ट्स के इर्द-गिर्द जीवन

A lifetime of sacrifice, patience, and love for martial arts has Japanese phenom Koyomi Matsushima ready to take the ONE Featherweight World Title off "The Situ-Asian's" shoulders!

A lifetime of sacrifice, patience, and love for martial arts has Japanese phenom Koyomi Matsushima ready to take the ONE Featherweight World Title off "The Situ-Asian's" shoulders! ????: Manila | 2 August | 5PM | ONE: DAWN OF HEROES????: Get your tickets at ???? http://bit.ly/oneheroes19????: Check local listings for global TV broadcast????: Watch on the ONE Super App ???? http://bit.ly/ONESuperApp ????‍????: Prelims LIVE on Facebook | Prelims + 2 Main-Card bouts LIVE on Twitter

Posted by ONE Championship on Monday, July 22, 2019

मात्सुशिमा ने लम्बे प्रशिक्षण के लिए मार्शल आर्ट के लिए पागल अपने माता-पिता को धन्यवाद दिया है। उनकी कला की कहानी परिवार के रहने वाले कमरे में शुरू हुई थी, जहां वह अपने माता-पिता को टीवी पर फाइट देखते हुए देखते थे।

वो बताते हैं कि “वो सभी प्रकार के मार्शल आर्ट्स को टीवी पर देखते आए हैं। इनमें किकबॉक्सिंग से लेकर शूटफाइटिंग तक, डेडू जुकु (कुडू), कराटे आदि शामिल है।”

“वो वास्तव में सिर्फ मार्शल आर्ट से प्यार करते थे। दोनों में से किसी ने भी ऐसा नहीं किया था, वे सिर्फ खेल के प्रशंसक थे। मैंने इसे देखा क्योंकि मेरे माता-पिता इसे देखते थे और आखिरकार उन्होंने मुझे मार्शल आर्ट्स में जाने के लिए लिए प्रेरित किया।”

“मुशीगो” के माता-पिता चाहते थे कि वह पहले जूडो सीखे ताकि वह उकेमी (कैसे गिरें) का अभ्यास कर सके, लेकिन पास में कोई स्कूल नहीं था। इसके बाद भी जब उन्हें कराटे क्लास में भेजा गया था तब वह लगभग 4 वर्ष के थे और जैसे ही उन्होंने डोजो के दरवाजे पर दस्तक दी, वैसे ही उनका प्रतिस्पर्धी अभियान शुरू हो गया।

उन्होंने कहा कि “जब मैं 4 या 5 साल का था, तब मेरी पहली फाइट हुई थी। मैने एक महीने में कई बार फाइट की और शुरुआत में मुझे हर फाइट में हार का सामना करना पड़ा। इसके चलते मैं हार हार के बाद खूब रोया करता था। यकीनन वह बहुत परेशान करने वाला दौर था।”

अभ्यास और दृढ़ता

Every shot of Koyomi Matsushima's electrifying KO of former ONE World Champion Marat Gafurov! The Japanese warrior faces "Pretty Boy" Kwon Won Il this Saturday!

???? FROM ALL ANGLES ????Every shot of Koyomi Matsushima's electrifying KO of former ONE World Champion Marat Gafurov! The Japanese warrior faces "Pretty Boy" Kwon Won Il this Saturday!????: Shanghai | 15 June | 5PM | ONE: LEGENDARY QUEST????: Get your tickets at ???? http://bit.ly/onequest19????: Check local listings for global TV broadcast????: Watch on the ONE Super App ???? http://bit.ly/ONESuperApp ????‍????: Prelims LIVE on Facebook | Prelims + 2 Main-Card bouts LIVE on Twitter

Posted by ONE Championship on Monday, June 10, 2019

युवा मत्सुशिमा के शुरुआती संघर्ष ने उन्हें अपने प्रशिक्षण से दूर नहीं किया। उन्होंने कराटे के मनोविज्ञान के साथ-साथ अपनी भौतिकता को भी बनाए रखा और अंततः जीत हासिल करने का रास्ता खोज लिया।

वो बताते हैं कि “मुझे लगता है कि कराटे सिर्फ ताकत के दम पर ही नहीं खेला जा सकता है। एक उच्च बेल्ट प्राप्त करना काटा (फार्म) को याद करने और कुमाइट (स्पैरिंग) को मजबूत करने के संयोजन पर निर्भर करता है।

“आखिरकार, मैंने जीतना शुरू कर दिया। मेरा शरीर कभी भी बड़ा व मजबूत नहीं था। ऐसे में अपने छोटे शरीर के साथ मुझसे बड़े किसी भी विरोधी को हराने में सक्षम होने में उनके अभ्यास ने बड़ा योगदान दिया है।”

जीतने की भावना ने उन्हें मार्शल आर्ट्स की अन्य विधाओं का भी अभ्यास करने के लिए प्रेरित किया। एक बार जब वह प्राथमिक विद्यालय में थे तो वह अपने माता-पिता की मूल योजना पर वापस गए और जूडो को अपने प्रदर्शनों की सूची में शामिल किया। “जूडो आपको सिखाता है कि कैसे जूझना है और आपको ताकत देता है। यही कारण है कि मेरे माता-पिता चाहते थे कि मैं इसे सीखूं।

प्रो की ओर बढ़ा रहे कदम

???????? Koyomi Matsushima makes a HUGE splash in the featherweight division with a unanimous decision win over “Pretty Boy” Kwon Won Il!

???????? Koyomi Matsushima makes a HUGE splash in the featherweight division with a unanimous decision win over “Pretty Boy” Kwon Won Il!????: Check local listings for global TV broadcast????: Watch on the ONE Super App ????http://bit.ly/ONESuperApp

Posted by ONE Championship on Saturday, June 15, 2019

कराटे और जूडो ने मत्सुशिमा को आक्रामकता और दांव पेच की मजबूत नींव प्रदान की। इसी के कारण वह वह एक मिक्स्ड मार्शल कलाकार बनने की ओर मजबूती से बढ़े। हालांकि, एक एथलीट के रूप में करियर के लिए प्रतिबद्ध होने से पहले वह एक अधिक ‘पारंपरिक’ पेशे की तरह सोचते थे, लेकिन यह उनके लिए गलत निर्णय साबित हुआ।

उन्होंने कहा कि “मैं यह सोचकर विश्वविद्यालय गया था कि स्नातक के बाद मार्शल आर्ट्स को आगे बढ़ाना सबसे अच्छा होगा। मुझे कानून का अध्ययन करने के लिए छात्रवृत्ति मिली, लेकिन ईमानदारी से कहूं तो मेरा उस क्षेत्र में नौकरी पाने का कोई इरादा नहीं था। मैं इसकी कल्पना भी नहीं कर सकता।

“मेरे माता-पिता दोनों चाहते थे कि मैं एक मिक्स्ड मार्शल कलाकार बन जाऊं। जब मैंने स्कूल छोड़ा तब भी उन्होंने मेरा साथ दिया। अब भी वो मेरी बहुत मदद करते हैं। मैं उन्हें किसी भी सूरत में निराश नहीं कर सकता हूं।”

“मौशिगो” ने किकबॉक्सिंग और कुश्ती में प्रतिस्पर्धा करने का कुछ अनुभव प्राप्त किया, इससे पहले कि उसने 2015 में अपने पेशेवर मिश्रित मार्शल आर्ट की शुरुआत की थी।

उच्चतम स्तर

???? 2 AUGUST. MANILA. ????

???? 2 AUGUST. MANILA. ????✅ Martin "The Situ-Asian" Nguyen vs. Koyomi Matsushima for the ONE Featherweight World Title!✅ Jonathan Haggerty vs. Rodtang Jitmuangnon for the ONE Flyweight Muay Thai World Title!✅ Eduard "The Landslide" Folayang vs. Eddie Alvarez in the ONE Lightweight World Grand Prix semi-finals!✅ "Mighty Mouse" Johnson vs. Tatsumitsu Wada and Danny "The King" Kingad vs. Reece "Lightning" Mclaren in the ONE Flyweight World Grand Prix semi-finals!????: Manila | 2 August | 7PM | ONE: DAWN OF HEROES????: Get your tickets at ???? http://bit.ly/oneheroes19????: Check local listings for global TV broadcast????: Watch on the ONE Super App ???? http://bit.ly/ONESuperApp ????‍????: Prelims LIVE on Facebook | Prelims + 2 Main-Card bouts LIVE on Twitter

Posted by ONE Championship on Monday, July 15, 2019

मत्सुशिमा ने दुनिया के सर्वश्रेष्ठ एथलीटों के खिलाफ खुद के परीक्षण के लिए गत सितम्बर में ONE के साथ करार किया था। उन्होंने कहा कि वह प्रथमिक स्कूल के समय से ही एक मार्शल आर्ट हीरो बनाना चाहते थे।

जब उन्होंने पहली बार ONE को देखा तो मैंने वहाँ बहुत से मजबूत एथलीटों की फौज नजर आई। उन्हें देखकर उनके मन में उनसे भिड़ने की इच्छा जागृत हो गई! उन्होंने सोचा कि इसमें शामिल होने से उनके और मजबूती व निखार आएगा। पंच्रेस आईएसएम योकोहामा प्रतिनिधि ने तत्काल विश्व खिताब के दावेदार बनने के लिए एक अविश्वसनीय पहली छाप छोड़ी जब उन्होंने पूर्व वन फेदरवेट वर्ल्ड चैंपियन मराट “कोबरा” गैफ्रोव के खिलाफ पहले राउंड में ही सनसनीखेज टीकेओ से जीत हासिल की।

उन्होंने बताया कि चोटों के कारण 9 महीने तक उन्हें निराशा हाथ लगी, लेकिन जून में “प्रिटी बॉय” क्वॉन वोन इल के खिलाफ एक्शन के लिए 26 वर्षीय की वापसी पर एक जीत ने उनके डिवीजन के शीर्ष दावेदार के रूप में उनकी स्थिति को मजबूत कर दिया।

अब सोने के लिए गुयेन का सामना करने के लिए निर्धारित है, उसे विश्वास है कि एक छोटे बच्चे के रूप में शुरू हुई यात्रा अब जल्द ही समाप्त हो जाएगी। उन्होंने कहा कि “बेशक, लक्ष्य उस बेल्ट को जीतना है, क्योंकि बेल्ट रखने वाला व्यक्ति सबसे मजबूत होता है।”