न्यूज़

एंजेला ली ने अविश्वसनीय जीत के साथ फिर की वापसी

अक्टूबर 14, 2019

एंजेला ली “अनस्टॉपेबल” के अविश्वसनीय जीतों से भरे करियर में ONE: CENTURY PART I में मिली जीत शायद उन सभी से ऊपर थी। सिंगापुर की सुपरस्टार ने रविवार 13 अक्टूबर को जापान के टोक्यो में रयोगोकू कोकुगिकन में एक रोमांचक आगे-पीछे के संघर्षपूर्ण मुकाबले में जिओंग जिंग नान “द पांडा” से अपना उधार चुकता कर लिया।

“अनस्टॉपेबल” को मार्च में पहली हार का सामना करना पड़ा, जब उसने ONE वूमन स्ट्रॉवेट वर्ल्ड खिताब के लिए चीनी एथलीट को चुनौती दी थी। ONE वूमन एटमवेट वर्ल्ड चैंपियन कहती हैं कि “मैं अभी बहुत खुश हूं। यह एक दाग को धोने वाले मुकाबले की तरह लगता है। मैंने हर एक राउंड में कड़ी मेहनत की। मुझे पता था कि वह मेरे लिए परेशानी पैदा करेगी, लेकिन मैंने उसे फिनिश देेने का पूरा मन बना लिया था।”

यह आसान से नहीं होने वाला था। ली को एक बार फिर “पंडा” की ताकतवर स्ट्राइकिंग का सामना करना पड़ा, लेकिन इस बार वह दबाव के क्षणों को सहने और उन्हें दूर करने में सक्षम थी। अपने पहले मुलाबले में मिली हार ने उसे कठोर अभ्यास करने के लिए प्रेरित किया। 23 वर्षीय फाइटर बताती हैं कि ”मैं तैयारी में ज्यादा विश्वास करती हूं। मार्च में हुई लड़ाई और यहां हुए मुकाबले के बीच मुख्य अंतर यही था।”

“मैंने इस लड़ाई के लिए पहले से कहीं अधिक कठिन प्रशिक्षण लिया। मैं प्रत्येक राउंड में गति को बढ़ाने में सक्षम थी और इससे मेरा आत्मविश्वास भी बढ़ा। अगले राउंड में जाने से पहले आपके मन में यह भाव आने लगते हैं कि मेरी सांसे फूल रही हैं। मेरे पैर सही तरह से काम नहीं कर रहे मैं क्या करूं?’ मुझे ऐसा अहसास नहीं हुआ और ना ही मुझे कोई संदेह था। इस कारण मैं अपने गेम प्लान पर टिकी रही।”

ONE: A NEW ERA में हुए मुकाबले में ली चौथे राउंड में प्रतिद्वंद्वी को फिनिश देने के करीब पहुंच गई थीं लेकिन कुछ भी करने के लिए उसके पास ताकत नहीं बची थी। इसके कारण जिओंग ने पांचवें राउंड में नियंत्रण पा लिया और तकनीकी नॉकआउट के साथ उसे बाहर किया।

इस बार अंकतालिका बदल गई थी। “पांडा” ने ली को चौथे राउंड में बाएं हुक से गिरा दिया, लेकिन यूनाइटेड एमएमए और इवॉल्व प्रतिनिधि ने अंतिम स्टेंजा में एक रियर-नेक्ड चोक के साथ जीत सुनिश्चित करने के लिए वापसी की। इसके बावजूद वह नॉकडाउन से उबर नहीं पाई थी।

“अनस्टॉपेबल” मानता हैं कि “ईमानदारी से कहूं तो आखिरी राउंड में मैं सीधा नहीं सोच सकती। मैं एक उलझन में थी। लड़खड़ाने वाली स्थिति में केवल मेरे कोने तरफ से मेरे भाई क्रिश्चन और पिताजी की आवाजें मुझे आगे बढ़ा रहीं थी। मैं अपने आप को एक अच्छी स्थिति में ले आई। एक बार जब मैंने अपने कोने में उनसे संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि मुझे क्या करना है।”

“उन्होंने कहा कि अपनी स्थिति को बनाए रखें। पीछे रहें और बहुत ऊंचाई पर ना जाएं। अब ठीक है अब फिनिश देने का प्रयास करें और उसने ऐसा कर दिखाया। इसलिए मैं वास्तव में उन सभी की एहसानमंद हूं। उन्होंने कोचिंग के माध्यम से मुझे जीत दिलाई।”

अब जबकि एटमवेट क्वीन ने अपनी चीनी विरोधी के साथ स्कोर को बराबर कर लिया है। वह The Home Of Martial Arts में दो-डिवीजन वर्ल्ड चैंपियन के रूप में पहली महिला बनकर इतिहास बनाने की अपनी कोशिशों को नए सिरे से शुरु करना चाहती है।

इससे दोनों सुपरस्टार्स के बीच एक खींचतान भरा मैच हो सकता है। वह बताती हैं कि “मैं हमेशा एटमवेट चैंपियन बनना चाहती थी मैं यहां पहुंच कर अभी संतुष्ट नहीं हूं।”

“मैं महसूस करती हूं कि मेरे पास स्ट्रॉवेट पर साबित करने के लिए बहुत कुछ है। मैं इसके आगे भी जाना चाहती हूं। भले ही मेरे पहले दो मैच मेरे मंजिल में शामिल नहीं है लेकिन मैं इससे हतोत्साहित नहीं हूं। मैं स्ट्रॉवेट डिविजन में वापसी कर एक और शानदार प्रदर्शन करूंगी।”

ये भी पढ़ेंः एंजेला ली ने सब्मिशन से जिओंग नान पर हासिल की जीत