न्यूज़

अकिहिरो फुजीसावा ने मलेशिया में टीकेओ से ही हार या जीत की दी गारंटी

अकिहिरो “सुपरजाप” फुजीसावा शुक्रवार 12 जुलाई को ONE: मास्टर्स ऑफ डेस्टीनी पर वापसी करने के दौरान यह साबित करने के लिए तैयार है कि मिक्स्ड मार्शल आर्ट सिर्फ युवाओं का खेल नहीं है।

वह अभी 39 वर्ष के हैं, लेकिन जापानी एथलीट रिच फ्रेंकलिन की ONE वारियर सीरीज़ (OWS) के सबसे चमकदार सितारों में से एक के रूप में उभरा है। यह शो मिक्स्ड मार्शल आर्ट में शीर्ष उभरते सितारों की खोज के लिए आयोजित किया गया है।

शिंगी डोजो और टीम थाई-यो के प्रतिनिधि पहले से ही फ्लाईवेट डिवीजन में दो जीत हासिल कर चुके हैं जो किसी भी अन्य OWS विशेषज्ञ से अधिक है। उन्होंने मुख्य रोस्टर के साथ अपना अनुबंध अर्जित किया था और वह मलेशिया के कुआलालंपुर में एलेक्सी “द जाइंट” टोईवोनेन के खिलाफ तीसरी जीत हासिल करने का प्रयास करेंगे।

After suffering the first loss of his professional career, can Japanese warrior Akihiro Fujisawa make a triumphant return to the winner's column on 12 July?

After suffering the first loss of his professional career, can Japanese warrior Akihiro Fujisawa make a triumphant return to the winner's column on 12 July?????: Kuala Lumpur | 12 July | 6PM | ONE: MASTERS OF DESTINY????: Get your tickets at ???? http://bit.ly/onemastersofdestiny19????: Check local listings for global TV broadcast????: Watch on the ONE Super App ???? http://bit.ly/ONESuperApp ????‍????: Prelims LIVE on Facebook | Prelims + 2 Main-Card bouts LIVE on Twitter

Posted by ONE Championship on Saturday, June 22, 2019

वो कहते हैं कि “मैं पुरानी पीढ़ी को प्रेरित करना चाहता हूं जो एक 39 वर्षीय फाइटर को देखकर ही बताई जा सकती है कि वह क्या कर सकते हैं।”

“सुपरजाप” ने अपने करियर की शुरुआत ड्रॉ से की थी, लेकिन लगातार पांच जीत के साथ अपने भार वर्ग में दिखने के लिए इकलौते योद्घा के रूप में खड़े हैं। रिंग में उनकी ताकत ने उन्हें चार टीकेओ और एक सही सबमिशन जीत के लिए खड़ा कर दिया।

हालांकि, उन्होंने अपने करियर में पहली ठोकर तब लगी थी जब वह एक विरोधी के खिलाफ बहुत आक्रामक थे और वह अपने पिछले मैच में गिलोटिन चोक के साथ ऑफ-गार्ड पकड़ा गया था।

बैंकाक निवासी मानते हैं कि उन्होंने अपने विजयी रन को बनाए रखने के लिए अपने कंधों पर वजन महसूस किया और इसको बनाए रखने के लिए अपनी क्षमताओं से भी आगे बढ़कर प्रदर्शन किया।

उन्होंने अब उस झटके को पीछे छोड़ दिया है और अब वह जब एक्सिटा एरिना में मुकाबले के लिए उतरेंगे तो किसी भी प्रकार की कोई गलती नहीं करने का पूरा प्रयास करेंगे।

उन्होंने बताया कि “मैं पिछली बार अपराजित रहने के दबाव में हार गया था, लेकिन मैंने इस लड़ाई के लिए अपनी मानसिकता और तकनीक को बहुत मजबूत किया है। हारना उनके लिए काफी अफसोसजनक था, लेकिन उस हार ने उन्हें बहुत कुछ सिखा दिया।”

उन्होंने कहा कि वह अपनी आक्रामकता पर बहुत अधिक अंकुश लगाने या अपनी खोज को खत्म करने का इरादा नहीं रखते है, भले ही टोईवोनेन को हराने के लिए उन्हें कोई भी मौका मिल रहा हो।

फुजिसावा की तरह, “द जाइंट” की भी अपनी शीर्ष श्रेणी के ब्राजीलियाई जीउ-जित्सु कौशल की बदौलत जीत की दर 100 प्रतिशत की रही है, लेकिन अपने प्रतिद्वंद्वी के हमलों से डरने के बजाय “सुपरजाप” सिर्फ यह स्वीकार करते हैं कि एक व्यक्ति प्रशंसकों को खुश करने के लिए एक ठहराव जरूर देगा।

वो बताते हैं कि “मुझे अपने पेशेवर करियर में किसी निर्णय पर जाने का कोई अनुभव नहीं है और न ही एलेक्सी के पास है”। मैच तो नॉकआउट पर ही खत्म होगा, चाहे वह जीते या हारे।

यदि वह अपना हाथ उठा सकता है तो जापानी एथलीट ओडब्ल्यूएस में एक और जीत के साथ दुनिया के सबसे बड़े मार्शल आर्ट संगठन ONE Championship में अपनी जीत का स्कोर तीन कर लेगा।

उनका मानना ​​है कि विश्व प्रसिद्ध इवॉल्व जिम के हाथ से चुने गए नए फाइटरों में से एक के खिलाफ एक जीत का आंकड़ा उन्हें फ्लाईवेट डिवीजन में शीर्ष नामों में से कुछ के लिए कतार में खड़ा कर देगा।

वह कहते हैं कि वह एक दिन डेमेट्रियस जॉनसन से फाइट करना चाहते हैं और वह भी डीजे से लड़ने का मौका पाने के लिए फ्लाईवेट वर्ल्ड ग्रांड प्रिक्स के कुछ एथलीटों को हराएंगे।