विशेष कहानियाँ

ONE चैंपियनशिप के शीर्ष 3 रीमैच से हिसाब चुकाने के किस्से

अगस्त 26, 2019

जब सबसे प्रेरणादायक नायकों को मार गिराया जाता है तो वे फिर से उठ खड़े हो जाते हैं। होम ऑफ मार्शल आर्ट्स के कुछ लोकप्रिय और सफल वर्ल्ड चैंपियंस तब गिर गए जब उन्होंने पहली बार गोल्ड के लिए चुनौती दी लेकिन उन्होंने अपने सपनों के लिए कभी हार नहीं मानी।

कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प के माध्यम से उन्होंने ग्लोरी पर दूसरा शॉट हासिल किया। उन्होंने इतिहास बनाने के लिए मिले दूसरे मौके को बर्बाद नहीं होने दिया। ये ONE चैम्पियनशिप के छुटकारा पाने की सबसे बड़ी कहानियां हैं।

#1 मार्टिन गुयेन बनाम मराट गफुरोव

अपने स्वयं के प्रवेश द्वारा मार्टिन “द सीटू-एशियाई” गुयेन उच्चतम स्तर के लिए तैयार नहीं थे जब उन्होंने मराट “कोबरा” गफुरोव का सामना किया।

सितंबर 2015 में ONE इंटरिम फेदरवेट वर्ल्ड खिताब प्रतियोगिता के आखिरी मिनट में उन्हें रोक दिया गया था और फिर केवल 41 सेकंड में रियर-नेक्ड चोक के साथ उसे मात दी। वियतनामी-ऑस्ट्रेलियाई इससे निराश जरूर हुआ लेकिन टूटा नहीं।

हार ने केवल बेहतर करने के लिए गुयेन के संकल्प को मजबूत किया। उन्होंने लगातार सुधार किया क्योंकि उन्होंने अपने रूसी प्रतिद्वंद्वी के साथ रीमैच हासिल करने के लिए हर दूसरे प्रमुख दावेदार को हराया।

दो साल बाद वह सफल हुआ जहां वह पहले विफल हो गया था। इस बार उन्होंने न केवल गफुरोव के सबमिशन के प्रयासों को विफल किया, बल्कि उन्हें ONE फेदरवेट वर्ल्ड चैंपियन बनने के लिए शानदार नॉकआउट के साथ रोक दिया।

#2 जोशुआ पैकियो बनाम योशिताका नितो

एक और उदहारण में एक कमजोर युवा योद्धा जोशुआ “द पैशन” पैकियो एक अनुभवी प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ अक्टूबर 2016 में ONE स्ट्रॉवेट वर्ल्ड खिताब के लिए उतरा और अपने पहले ही शॉट में बाहर कर दिया गया।

योशिताका “नोबिता” नाइतो जिउ-जित्सु कौशल में बहुत चालाक था। उस जापानी स्टार ने एक रियर-नेक्ड चोक देकर उसे बाहर निकलने के लिए मजबूर कर दिया जिसे फिलिपिनो वुशू विशेषज्ञ पहले समझ नहीं पाया था।

सर्किल में सभी को दिखा कि पैकियो का दिल टूट गया था लेकिन जैसे ही वह बागुइओ सिटी में टीम लेकी में वापस आया तो उसने पूरी तरह से मिक्सड मार्शल कलाकार बनने के प्रयासों को फिर शुरू कर दिया।

वह एक अलग जानवर था जब उसने दो साल बाद नाइतो को फिर से चुनौती दी- एक जो मिक्सड मार्शल आर्ट के हर चरण में बेहतर थी। “द पैशन” के बिना रूके किए गए आक्रमण का “नोबिता” के पास कोई जवाब नहीं था। इस कारण इस बार उसका हाथ सर्वसम्मति से निर्णय के माध्यम से उठाया गया था।

#3 आंग ला एन सांग बनाम विटाली बिगडाश

म्यांमार के मार्शल आर्ट्स हीरो आंग ला “द बर्मीज़ पायथन” एन सांग ने एक भी आंसू नहीं बहाया जब वह विटाली बिगडाश के खिलाफ एक सर्वसम्मत निर्णय से हार गया।

पांच दौर में रूसी के हमले झेलने के बाद उसके चेहरे पर लड़ाई के निशान थे लेकिन जब उन्होंने तत्कालीन ONE मिडिलवेट विश्व चैंपियन को बेल्ट पहने देखा तो उसने सफल होने की कसम खाई जहां वो असफल रहा था। इसके लिए उसे लंबा इंतजार नहीं करना पड़ा।

कम से कम छह महीने बाद उसे मौका मिला। वह एक नया व्यक्ति था। आंग ला एन सांग ने कड़ी मेहनत की और अपने प्रतिद्वंद्वी को शक्तिशाली मुक्के से जल्दी नीचे गिरा दिया। हालांकि बिगडाश ने आक्रमण का जवाब उसी तरह से देना चाहा जिससे वो पहला मैच जीता था लेकिन हर बार वह मजबूत हुआ जब-जब उसे आंका गया।

25 मिनट के बाद “द बर्मीज़ पायथन” ने जजों के फैसले को यंगून में अपने प्रशंसकों के सामने गोल्ड जीतने के लिए हासिल किया। इस बार उसकी आंखों में आंसू थे लेकिन सिर्फ खुशी के।