विशेष कहानियाँ

कैसे वांग वेनफेंग ने दबंगों पर विजय हासिल की और बने विश्व चैंपियन

नवम्बर 16, 2019

वांग वेनफेंग “मेटल स्टॉर्म” बचपन में दबंगों के सामने हार नहीं मानी। इसके बजाय उन्होंने चीनी योद्धा की भावना जाग्रत किया जिसने उन्हें मार्शल आर्ट में सफल होने के लिए प्रेरित किया।

आने वाले शनिवार 16 नवंबर को वह बीजिंग, चीन में ONE फ्लाइवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल के लिए ONE: AGE OF DRAGONS में चुनौती देंगे। यह “मेटल स्टॉर्म” के लिए एक आसान रास्ता नहीं है, लेकिन वह अपनी ज्वाला के लिए उसके पास ऊर्जा की कमी नहीं है।

कैडिलैक एरीना में खिताबधारक इलियास इनाहाचि “ट्वीटी” के खिलाफ अपने विश्व चैम्पियनशिप के मुकाबले से पहले इस 26 वर्षीय के शीर्ष पर पहुंचने के बारे में थोड़ा और जान लेते हैं।

दबंगों के खिलाफ उठ खड़े होना

वांग का जन्म 1993 में चीन के अनहुई प्रांत की राजधानी हेफ़ेई में हुआ था। वह एक “पतला, कमजोर” बच्चा था और स्कूल में उनका बचपन हमेशा पीड़ा में गुजरा था। शारीरिक कमजोरी के बावजूद उनका दिमाग मजबूत था।

वे बताते हैं कि “मेरे सहपाठियों ने सोचा कि धमकाने के लिए मैं एक आसान लक्ष्य था। वे मुझ से फर्श पर झाड़ू लगाने जैसे काम करने के लिए कहते थे, लेकिन मैं ऐसा करने के लिए तैयार नहीं था। मुझे बहुत तंग किया गया। मैं इस बारे में सोच रहा था कि उनसे कैसे लड़ूं। चाहे मैं उनसे जीत नहीं सकता, लेकिन लड़ने की कोशिश करना चाहता था।”

“मेटल स्टॉर्म” के लिए यह मुश्किल समय था। उसके बुरे व्यवहार के कारण उसके ग्रेड खराब हो गए। वह बताते हैं कि “मैं स्कूल में शरारती था और अध्ययन नहीं करना चाहता था। इस कारण मेरा परिणाम बहुत खराब रहता था।” उसके व्यवहार को ठीक करने के प्रयास में उसके माता-पिता ने एक बड़ा निर्णय लिया, जिसने उनके जीवन की दिशा ही बदल दी।

मार्शल आर्ट्स की शिक्षा

माता-पिता ने वांग को अनुशासित करने के लिए मार्शल आर्ट्स स्कूल में दाखिला दिला दिया। हालांकि उन्होंने इसमें जाने से इनकार किया, लेकिन उनकी परवाह किए बिना स्कूल में जाने के लिए मजबूर किया गया।

वह कहते हैं कि “मेरे माता-पिता ने सोचा कि मैं अच्छी तरह से अध्ययन नहीं कर सकता। उन्होंने मुझे कई मौके दिए और फिर मुझे एक मार्शल आर्ट्स स्कूल में भेजा। उस समय मैं इससे असहमत था, लेकिन उनके फैसले को मानना पड़ा। मैं वास्तव में मार्शल आर्ट को नहीं जानना चाहता था। क्योंकि मैंने इसे केवल फिल्मों और टीवी पर नाटकों से देखा था।”

हालांकि बदलने में उसे ज्यादा समय नहीं लगा। वह जिस तरह के नकारात्मक परिवेश में रह रहा था उससे छुटकारा मिल गया। उसने मानसिक और शारीरिक दोनों तरह के आत्मविश्वास को हासिल करने का एक तरीका खोज लिया।

वह आगे बताते हैं कि “मुझे धीरे-धीरे मार्शल आर्ट्स स्कूल के जीवन की आदत पड़ गई। मेरे विचार से वहां का जीवन अलग था। मैंने चीनी मार्शल आर्ट्स को चुना और फिर मैंने हर दिन प्रशिक्षण लिया। दरअसल इसकी गतिविधियों ने मुझे आकर्षित किया।”

सांडा कोच ने उनकी प्रतिभा को देखा और उन्होंने वांग को स्कूल टीम में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया। दो साल के बाद नौजवान हेफ़ेई स्पोर्ट्स स्कूल चले गए जहां उन्होंने अपनी सांडा खेल का सफर जारी रखा और कई प्रांतीय खिताब अर्जित किए।

जल्द ही वो मॉय थाई के संपर्क में आ गया। जब उन्होंने “आर्ट ऑफ एट लिम्ब” के बारे में अधिक सीखा तो उन्हें इससे लगाव हो गया। उन्होंने कहा कि “मैंने केवल मॉय थाई को फिल्मों में देखा। मॉय थाई मेरे लिए हिंसक था। यह प्रतियोगिता बहुत ही खतरनाक थी। मॉय थाई को जानने के बाद यह वास्तव में आसान लगी। मैं इसमें फिट हूं।”

करियर-खत्म करने वाली चोट

हालांकि ज़िंग्बो शेंगशी फाइट क्लब के प्रतिनिधि के लिए यह स्ट्राइकिंग दुनिया के शीर्ष पर पहुंचने के लिए एक सीधा रास्ता नहीं था। जब उन्होंने मॉय थाई में पूर्ण रूप से प्रवेश कर लिया तो एक मुकाबले के दौरान गंभीर चोट का सामना करना पड़ा।

वांग कहते हैं कि “मेरे जीवन का सबसे निचला बिंदु थाईलैंड में एक प्रतियोगिता के दौरान था। मुझे प्रतियोगिता के दौरान चोट लगी, लेकिन मैंने तीन राउंड तक मुकाबला किया। मैंने चीन में आकर इलाज कराया। डॉक्टर ने मुझे बताया कि मैं फिर से बॉक्सिंग रिंग में कभी नहीं लौट सकता। मुझे लगा कि मैं हार गया हूं। दो महीने तक मैंने बॉक्सिंग जिम में शराब पी। मैंने अपने कोच की सलाह नहीं सुनी।”

“मुझ में परिवार को अपनी चोट के बारे में बताने की हिम्मत नहीं थी। क्योंकि वे डर जाते और चिंतित हो जाते। मैंने अकेले ही सारी परेशानी का बोझ अपने ऊपर ले लिया।” “मेटल स्टॉर्म” को मेजर सर्जरी की पेशकश की गई थी, लेकिन वह जोखिम उठाने से खुश नहीं थे- जिसमें रिंग में वापस कदम रखने की संभावना खत्म हो सकती थी।

फिर उनके कोच ने पारंपरिक चीनी उपचार का सुझाव दिया, जिसमें अधिक समय लगेगा, लेकिन खतरा कम होगा। वांग इस सुझाव को स्वीकार किया और इसका परिणाम भी मिला। छह महीने के बाद वह पहले से भी अधिक भूख के साथ प्रशिक्षण करने लौट आए। अपनी चोट के केवल एक वर्ष बाद वह बड़ी सफलता के साथ सक्रिय प्रतियोगिता में लौट आए।

हालांकि वांग ने इस कठिन चुनौती में एक अमूल्य सबक सीखा। वह कहते हैं कि “कोई बात नहीं, जो भी हमें परेशानी होती है, जब तक आप उसका उत्साह से सामना करते हैं। यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि आप इसका सामना कैसे करते हैं और कुछ लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कदम बढ़ाते हैं।”

ONE गोल्ड की तलाश

KLF World Champion Wang Wenfeng from China

चार राष्ट्रीय खिताब और तीन विश्व चैंपियनशिप अर्जित करने के श्रेय के साथ वांग अब इतिहास में सबसे सफल चीनी स्ट्राइकरों में से एक हैं। वह कहते हैं कि “मैंने चोट के बाद उस साल अपने जीवन का सबसे बड़ा पुरस्कार जीता। यह अविश्वसनीय था, क्योंकि मैंने वह चैम्पियनशिप जीती, मुझे एहसास हुआ कि मैं आगे जा सकता हूं। इसने मुझे मजबूत बनाया।”

अब उन्होंने वैश्विक स्तर पर सबसे प्रतिष्ठित खिताब के लिए प्रतिस्पर्धा करने के लिए कदम रखा है- ONE फ्लाइवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैम्पियनशिप। दबंग और चोट उसे वापस रोकने के लिए काफी नहीं थी। अब वह अपनी ताकत दिखाने के लिए आगे बढ़ते हुए The Home Of Martial Arts में चीन का प्रतिनिधित्व करना चाहता है।

ONE Championship में अपने डेब्यू के लिए मैं वर्ल्ड खिताब के लिए चुनौती दूंगा। कई सवाल होंगे, लेकिन मुझे खुद पर भरोसा है और मैं साबित करूंगा कि मैं इसके लायक हूं। मैं अपनी क्षमताओं का उपयोग करके खुद को साबित करूंगा। मैं गोल्ड बेल्ट के लिए चुनौती दे सकता हूं और मुझे विश्वास है कि मैं इसे भी जीत सकता हूं।”

“क्योंकि मैं अपने ही देश में प्रतिस्पर्धा कर रहा हूं। इसलिए यह मेरे लिए बहुत अच्छा मौका है। मेरा परिवार और दोस्त बीजिंग में हैं। मैं चाहता हूं कि मेरे माता-पिता अपने बेटे को बेल्ट जीतते हुए देखें।”

ये भी पढ़ें: वांग वेनफेंग बीजिंग में एनाहाचि को नॉकआउट में हराने को तैयार

बीजिंग| 16 नवम्बर | AGE OF DRAGONS | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय सूची का अवलोकन करें ।

ONE: AGE OF DRAGONS का प्रसारण स्टार स्पोर्ट्स सिलेक्ट 2 पर शनिवार 16 नवंबर दोपहर 2:30 बजे आईएसटी पर शुरू होगा। मुख्य कार्ड की विशेषता रितु फोगट का ONE डेब्यू, 4:00 बजे आईएसटी से शुरू होगा।