विशेष कहानियाँ

डाइची किटाकाटा ने कैसे की मार्शल आर्ट की खोज और जापान को जीत लिया

सितम्बर 23, 2019

वेस्ट जापान को दृढ व उग्र चरित्रों के निर्माण के लिए जाना जाता है। डाइची किटाकाटा कोई अपवाद नहीं है। एक बच्चे के रूप में अपने विद्रोही स्वभाव के कारण मार्शल आर्ट के साथ उनका पहला सम्पर्क अल्पकालिक था।

हालांकि, जब उन्होंने ओसाका के शीर्ष डोजो में से एक में मिक्स्ड मार्शल आर्ट की खोज की, तो उन्होंने सम्मान के बारे जाना तथा जीवन में एक नई दिशा पाकर महानता की राह पर चलना शुरू कर दिया।

अब, पेंक्रेसे स्ट्रॉवेट वर्ल्ड चैंपियन ने ONE Championship में ONE: CENTURY PART II अपना डेब्यू निर्धारित कर लिया है। वह अपने वजन वर्ग में नंबर एक जापानी एथलीट बनने के लिए फाइट में पूर्व वन स्ट्रॉवेट वर्ल्ड चैंपियन, और शूटो वर्ल्ड चैंपियन योसुके “द निंजा” सरुता का सामना करेंगे।

उस बाउट से पहले, 28-वर्षीय ने खुलासा किया कि मार्शल आर्ट ने उन्हें वह आदमी में कैसे बना दिया जो वह आज है।

मार्शल आर्ट्स का आकर्षण

किटाकाटा अपने बेहद सजग माता-पिता के साथ बड़े हुए और उनकी परवरिश टोक्यो के अपने कई साथियों की तुलना में बहुत अलग थी। 2 वर्ष की आयु से ही उनकी माँ नियमित रूप से उन्हें पास के पहाड़ों और नदियों पर ले गईं और मार्शल आर्ट्स को जानने से पहले यह कुछ ज्यादा नहीं था। हालांकि वह इसमें असफल रहे थे।

उन्होंने कहा कि उन्होंने 6 साल की उम्र में शोरिनजी कीम्पो की शुरुआत की थी, लेकिन वह एक लापरवाह बच्चे थे, जो अपने शिक्षक की बात नहीं मानते थे। ऐसे में वह महज एक साल के बाद ही इससे दूर हो गए।

10 साल की उम्र में उन्होंने पेशेवर कुश्ती की खोज की और यादा करते हुए कहा कि वह नाया ओगावा के साथ शिन्या हाशिमोटो के मैच के उत्साह को लेकर आकर्षित हुए थे। हालांकि जब मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स जूनियर हाई स्कूल में उनकी रुचि थी, तो वहां ऐसा कुछ भी नहीं था।

2000 के दशक के दौरान जापान में मार्शल आर्ट तेजी से बढ़ने लगा और किटाकाटा उसके प्रति आकर्षित हो गए। उन्होंने जापान के सबसे बड़े संगठन को टीवी पर देखा था। अगले दिन उन्होंने स्कूल के जूडो क्लब में शामिल होने के लिए बेसबॉल छोड़ दी।

उन्होंने कहा कि पहली बार उन्होंने गौरव को मजसूस किया और अगले दिन से उसे करने के का निर्णय कर लिया। इस बार वो हाई स्कूल में पहुंचने तक कक्षाओं से जुड़े रहे और उसके बाद प्रसिद्ध पंचरेज ओसाका इनागाकी-गुमी हज्जो में शामिल हो गए।

उन्होंने कहा कि इंटरनेट पर खोज करने के बाद फैसला किया कि वह शीर्ष परिणामों देने वाले जिम में जाएंगे। उनका घर वास्तव में वहाँ से बहुत दूर था, लेकिन उन्हें लगा कि बाइक से जाना आसान होगा। तीन घंटे लग गए! लेकिन, उन्होंने पहले ही बाइक से जाने का फैसला कर लिया था, इसलिए उन्होंने ऐसा ही किया।

अनुशासन और जिम्मेदारी

View this post on Instagram

今日の練習は平均年齢24歳!    この面子意外にも若手はまだまだいる。     競技者の平均年齢が高い日本のMMA業界においてうちの道場の若さは可能性の塊。     格闘技始めたいと思ってる少年、青年、思い切って飛び込んどいで????         #日本 #大阪 #総合格闘技 #格闘技 #格闘家 #パンクラス #キックボクシング #ボクシング #レスリング #柔術 #グラップリング #トレーニング #パーソナルトレーニング #フィットネス #スポーツ  #アスリート #JAPAN #training #sports  #athlete  #kickboxing #boxing #wresling #grappling #nogi #jiujiutsu

A post shared by 北方 “獅子王子” 大地 (@daichikitakata8mma) on

पूर्व पैक्रेस एथलीट, संस्थापक और मुख्य कोच, काटसुओमी इनागाकी बेहद सम्मानित वयोवृद्ध, जिन्होंने योशीरो मैडा के साथ किटाकाटा को मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत बनाने में मदद की। उन्हें याद है कि मिस्टर इनागाकी उनके लिए एक बुशीदो माहौल रखते थे।

वह ज्यादा नहीं बोलते थे, लेकिन आप उनकी बारीकियों को महसूस करते हैं जिसे शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता है। उस संतुलन ने वास्तव में उन्हें मजबूत बनाया। उन्होंने सोचा कि वह उस तरह का शख्स हैं, जैसा वो बनना चाहते हैं।

योशिरो माएदा वहां थे। जितने भी डरावने लोग उनसे मिले, वह उनकी जैसे किसी भी व्यक्ति से नहीं मिले थे। उन्हें उनमें एक प्रबल प्राण शक्ति महसूस हुई। उन्होंने सोचा था कि वह उसी तरह का शख्स हैं, जिसकी तरह वह खुद को प्रशिक्षित करना चाहते थे।

वह जल्दी से कठोर प्रशिक्षण में घुस गए और उन्होंने अपने देश के शीर्ष प्रतियोगियों में से एक होने के लिए आवश्यक कौशल को विकसित किया। उन्होंने अपनी टीम के बाकी सदस्यों के साथ एक मजबूत संबन्ध बनाया और अपने आसपास के लोगों की देखभाल करना सीखा।

उन्होंने कहा कि अन्य कोहई (जूनियर्स) टीम में शामिल होने के साथ उन्होंने अपने से छोटे लोगों के लिए जिम्मेदारी निभाना सीख लिया। दूसरों की देखभाल करना मार्शल आर्ट्स की भावना है।

“हमारे डोजो में, हमारे पास एक मजबूत टीम भावना है। हमारे पास पीढ़ियां, परंपरा है। डोजो का अपना विशेष वाइब है। उन्हें लगता है कि इस तरह से एक जगह पर उठाया जा रहा है, सब कुछ नीचे पारित होने के साथ, एक शक्तिशाली हथियार है। एक-दूसरे की देखभाल करने वाला सेमीपाइ-कोहाई सिस्टम हमें मजबूत इच्छा शक्ति देता है।

संतुलन बनाया

किटाकाटा ने जिंदगी में अपना लक्ष्य निर्धारित कर लिया था। जब उन्होंने 18 साल की उम्र में स्कूल छोड़ा तो वह सीधे पूर्णकालिक प्रशिक्षण लेने के लिए चले गए। जबकि उन्होंने अपने करियर के शुरुआती दिनों में जिंदगी जीने में मदद करने करने वाली चीजों को हासिल करने के मेहनत की थी।

उन्होंने एक रेमन की दुकान और स्पोर्ट्स स्टोर में काम किया, लेकिन उनके लिए जीवन में संतुलन स्थापित करना बहुत मुश्किल हो रहा था। उन्होंने कहा कि मार्शल आर्ट्स से करियर बनाने में सबसे बड़ी परेशानी यह थी कि आप केवल मार्शल आर्ट पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। उसी समय काम करना और प्रतिस्पर्धा करना सबसे कठिन था।

पैसा कभी उसका लक्ष्य नहीं था। उन्हें बस इतनी ही जरूरत थी कि वह अपनी जिंदगी आसानी से बिता सके। उन्हें आखिरकार इसका एहसास
तब हुआ जब एक स्थानीय स्पोर्ट्स क्लब ने उन्हें निजी प्रशिक्षण देने के लिए जगह देने की बात कही। उनका जीवन अब उनके इच्छित तरीके से संतुलित था और उनके पास अपने जीवन के किसी अन्य क्षेत्र में अपने जुनून का उपयोग करने में सक्षम होने का बोनस भी था।

लोगों को मार्शल आर्ट सिखाने से आप अपने काम के बारे में और अधिक गहराई से सोचते हैं। तकनीकों को समझाने की इनपुट-आउटपुट प्रक्रिया का मतलब है कि आपको उन्हें समझना होगा।

जापान के शहंशाह से वैश्विक स्तर पर

Daichi Kitakata with the ONE Championship belt at the ONE CENTURY media day

किटाकाटा ने अपने पेशेवर करियर की शुरुआत 2010 में की, और जल्दी से एक प्रभावशाली रिकॉर्ड बनाना शुरू कर दिया। उन्होंने लगभग विशेष रूप से प्रेंक्रेसे में प्रतिस्पर्धा की थी।

उनके करियर ने 2015 की शुरुआत में एक एक नई ऊंचाई को छुआ जब उन्होंने एक रन शुरू किया। इसमें उन्होंने 12 मुकाबलों में केवल एक बार हार का सामना किया और अपने संगठन के विश्व चैंपियन बनने के लिए आगे बढ़ गए।

दिसंबर 2016 में लोन की हार लंबे समय तक राज करने वाले किंग ऑफ प्रेंक्रेसे, मित्सुहिसा सुनबे की थी जो 2011 में शुरू हुई लंबी जीत की लकीर पर सवार थे।

उन्हें अपनी हार से उबरने में ज्यादा देर नहीं लगी, क्योंकि उन्होंने इस जुलाई में अपने प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ बेल्ट में दूसरा शॉट लेने के लिए शीर्ष चार स्ट्राइवेट में जगह बना ली। इस बार, उन्होंने अपने करियर के सबसे सुखद क्षण का अनुभव किया, जब उन्होंने सफलता के शिखर पर चढ़ने के लिए एक नाटकीय, पांचवें दौर के टीकेओ हासिल कर लिया।

इससे उन्हें दुनिया के सबसे बड़े मार्शल आर्ट संगठन में भी अपनी जगह मिल गई, और वे ग्रह पर सबसे अच्छे प्रतियोगियों के खिलाफ खुद को परखने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि वह जापान का प्रतिनिधित्व करते हुए दुनिया भर के लोगों का सामना करना चाहते हैं।

टोक्यो | 13 अक्टूबर | ONE: CENTURY | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय लिस्टिंग की जाँच करें | टिकट: https://onechampionship.zaiko.io/e/onecentury

ONE: CENTURY इतिहास की सबसे बड़ी विश्व चैम्पियनशिप मार्शल आर्ट प्रतियोगिता है जिसमें 28 विश्व चैंपियनशिप विभिन्न मार्शल आर्ट शैलियों का प्रदर्शन करेंगे। इतिहास में किसी भी संगठन ने कभी भी एक ही दिन में दो पूर्ण पैमाने पर विश्व चैम्पियनशिप इवेंट आयोजित नहीं किए हैं।

13 अक्टूबर को जापान के टोक्यो में प्रसिद्ध रोयोगोकू कोकूगिकन में कई वर्ल्ड टाइटल मुकाबलों, वर्ल्ड ग्रां प्रिक्स चैंपियनशिप फाइनल की एक तिकड़ी और कई वर्ल्ड चैंपियन बनाम वर्ल्ड चैंपियन मैच लाने के साथ The Home Of Martial Arts नई जमीन पर दस्तक देगा।