विशेष कहानियाँ

सादगीपूर्ण शुरुआत ने होनोरियो बानारियो को दी अविश्वसनीय ताकत

जुलाई 31, 2019

होनोरियो “द रॉक” बनारियो का मानना ​​है कि बचपन में अपने हाथों को मैला करने की उनकी इच्छा ने उन्हें आज प्रतियोगी के रूप में आकार दिया।

टीम लेकी स्टैंडआउट – जो अगले शुक्रवार 2 अगस्त को ONE: डाउन ऑफ हीरोज में “क्रेज़ी डॉग” डाई सुंग पार्क का सामना करेगा, जो छोटे शहर मंक्यन में सादगीपूर्ण परिवेश में पले-बढ़े। फिलीपींस के बेंगुएट प्रांत में अपनी सुविधाओं के साथ रोजमर्रा की जिंदगी में भी चुनौतियां पेश करता है।

वह कहते हैं कि “जहां तक ​​मुझे याद है, मेरा बचपन इस मायने में बहुत दिलचस्प था कि प्रांत में रहना बहुत सुखद है। आप जो चाहें जो कर सकते हैं। मैं सुबह तीन किलोमीटर या उससे अधिक पैदल चलकर स्कूल जाता था और दोपहर में घर जाने के लिए इसी तरह यात्रा करता था।”

“हम अभी भी पैदल चलते हैं क्योंकि हमारा घर दूर-दराज इलाके में है। वहां की सड़कें अच्छी तरह से विकसित नहीं है। इसलिए आज भी यहां से कम ही कारें गुजरती हैं।”

इस 29 वर्षीय खिलाड़ी के माता-पिता किसान थे। उनके प्रांत के अधिकांश लोगों की मुख्य आजीविका का साधन भी यही है। लगभग हर घर में अपने स्वयं के लिए और आजीविका के लिए सब्जियां उगाई जाती है। युवा बनारियो के लिए परिवार के पेश में शामिल होना स्वाभाविक था। 

उन्होंने कहा कि “हमारे लिए खेत में काम करना सामान्य है, लेकिन अन्य के लिए रोजाना ऐसा करने की कल्पना करना बहुत कठिन है। माता-पिता का सहयोग करने के लिए मैं हर शनिवार को खेत में जाते थे क्योंकि उस दिन हमारे स्कूल का अवकाश रहता था।

एक बच्चे के रूप में भी यह पूर्व ONE फेदरवेट वर्ल्ड चैंपियन के लिए आसान काम नहीं था। वह सुबह लगभग 7 बजे काम करना शुरू करता और तेज गर्मी के बावजूद शाम 6 बजे तक जारी रखता।

ऐसा लगता है कि इस तरह के थका देने वाले काम करने के लिए आपको अपना खाली समय देना पड़ सकता है लेकिन “द रॉक” ने इसे कभी इस तरह से नहीं देखा। वह अपने प्रियजनों के साथ समय बिताने और मदद करने के लिए खुश था।

वे बताते हैं कि “जब मैं खेत या हमारे बगीचे में जाता था तो आमतौर पर अपनी मां और अपने भाइयों के साथ जाता था। क्योंकि मेरे पिता तब तक बहुत दूर काम करते थे और महीने में एक या दो बार ही घर आते थे। घर जाने के लिए उन्हें 10 घंटे की यात्रा करनी पड़ती थी।”

“जब मैं छोटा था तो खेत में जाना अनिवार्य नहीं था। आप चाहें तो जा सकते हैं। अगर थक गए हैं तो घर जाकर आराम कर सकते हैं। यह ऐसा था जैसे मैं खेल रहा था क्योंकि मैं छोटा था। मैंने इसे जिम्मेदारी के रूप में नहीं देखा था। ”

“यह कठिन था लेकिन मैंने इसे हमेशा खेल के रूप में लिया था। इसलिए मैंने कभी भी खेत में जाने को लेकर दबाव महसूस नहीं किया और ना ही इसे कड़ी मेहनत के रूप में देखा। इसके बजाय वास्तव मुझे इसमें मजा आया।”

अपने मार्शल आर्ट करियर के दौरान कड़ी मेहनत इस 29 वर्षीय की पूंजी रही है। जब उन्होंने प्रशिक्षित होना शुरू किया तब उन्हें लंबे समय तक शारीरिक परिश्रम करने की आदत थी। इसलिए वे गहन प्रशिक्षण सत्रों के लिए अनुकूल हो सकते थे।

वह लम्बी खिंचने वाली लड़ाइयों से अजनबी नहीं था। उद्घाटन ONE फ़ेदरवेट विश्व खिताब जीतने के लिए चाहे वो एड्रियन “द हंटर” पंग और राहुल “द केरला क्रशर” राजू के खिलाफ उनकी जीत हो या एरिक केली के खिलाफ चौथे राउंड में तकनीकी नॉकआउट। 

2 अगस्त को “द रॉक” को एक बार फिर 15 मिनटों की लम्बी कड़ी टक्कर देनी पड़ सकती है जब वह मनीला, फिलीपींस के मॉल ऑफ एशिया एरिना के पार्क में लड़ेगा लेकिन वह अपनी कठोरता पर भरोसा कर सकता है जो उसने युवावस्था में हासिल की थी।

उन्होंने कहा कि ” तब हमें घर जाने से पहले खेत में सब कुछ खत्म करने की जरूरत थी। इसलिए जब हम वहां थे तो हमें अपना काम पूरा करने पर ध्यान केंद्रित करना होता था। इसने मेरे अन्दर काम की नैतिकता को विकसित किया। मुझे यह भी लगता है कि खेती ने मुझे कठोर के साथ शारीरिक रूप से मजबूत भी बनाया।”

“खेत हमारे घर से बहुत दूर थे। मुझे खेत तक पहुंचने से पहले एक घंटा लग गया इसलिए मैं पहाड़ पर चढ़ गया। यह बहुत कठिन था लेकिन इसने मुझे आज एक एथलीट के रूप में मजबूत बना दिया। ”

मनीला | 2 अगस्त | 7PM | डाउन ऑफ हीरोज | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय सूची का अवलोकन करें | टिकट: http://bit.ly/oneheroes19