सुपरलैक ने ONE 165 से पहले अपने चाचा के दुखद निधन पर बात की – ‘उन्होंने हमेशा मेरा हौसला बढ़ाया’

Superlek Kiatmoo9 Rodtang Jitmuangnon ONE Friday Fights 34 97

सही समर्थन अक्सर सफलता के लिए महत्वपूर्ण होता है और “द किकिंग मशीन” सुपरलैक कियातमू9 ने अपने चाचा पुन इयामसिरी के साथ अविश्वसनीय मार्शल आर्ट्स सफर के हर चरण को पार किया है।

हालांकि, इस रविवार को ONE 165 के मेन इवेंट में टकेरु सेगावा के साथ मुकाबला पहला मौका होगा, जब थाई एथलीट को पुन व्यक्तिगत रूप से देख या दूर से उत्साह बढ़ा नहीं रहे होंगे।

टोक्यो के एरियाके एरीना में अपने ONE फ्लाइवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल डिफेंस की तैयारी के दौरान सुपरलैक को चौंकाने वाली खबर मिली कि उनके चाचा की मृत्यु हो गई है।

अपने सबसे बड़े समर्थकों में से एक को याद करते हुए “द किकिंग मशीन” ने कहा:

“मेरे चाचा एक ऐसे व्यक्ति थे, जिन्हें कॉम्बैट स्पोर्ट्स पसंद था। उन्होंने मेरी लगभग हर फाइट देखी। जब भी मैं पुराने लुम्पिनी स्टेडियम या Rajadamnern स्टेडियम में लड़ता था तो वो हमेशा मेरा हौसला बढ़ाने आते थे। उन्हें मेरे साथियों को लड़ते हुए देखना भी पसंद था।

“मुझे हमेशा अच्छा लगता था जब मेरे चाचा मुझे प्रोत्साहित करते थे। परिवार के सदस्य फाइट देखने आए तो आनंद आता है।” 

जापानी दिग्गज टकेरु के साथ धमाकेदार फाइट से पहले ये खबर मिलना सुपरलैक के लिए एक बड़ा झटका था, लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं है कि उनके चाचा चाहते होंगे कि थाई फाइटर मैच अवश्य लड़ें।

इसलिए रुकने की बजाय 28 वर्षीय एथलीट ने भारी मन के साथ अपना प्रशिक्षण जारी रखा:

“जब उनकी मृत्यु हुई तब मैं एक फाइट कैम्प में था। उस दिन मेरी मां ने मुझे फोन किया। ये काफी असामान्य है क्योंकि मेरी मां मुझे कम ही कॉल करती हैं, लेकिन उस समय में ट्रेनिंग दे रहा था और वो कॉल चूक गई।

“फिर मेरे भाई ने मुझे एक मैसेज भेजा और पूछा कि क्या मैं घर आऊंगा। मैंने उनसे पूछा, ‘मुझे क्यों आना होगा?’ और उन्होंने कहा, ‘क्या आप नहीं जानते कि हमारे चाचा का अभी निधन हो गया है?’ तब मुझे पता चला उनकी मृत्यु एक बीमारी के कारण हुई थी।

“लेकिन मेरे परिवार ने मुझे ट्रेनिंग जारी रखने के लिए कहा। बस अंतिम संस्कार में आ जाओ। मैं सुबह अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए घर गया और शाम को जिम वापस आ गया।” 

सुपरलैक: ‘मैं अपने परिवार के लिए लड़ता हूं’

कई वर्षों से एक फाइटर के रूप में जीवन यापन करने के बाद सुपरलैक कियातमू9 ने सीख लिया है कि इस खेल को एक नौकरी के रूप में कैसे माना जाए और इसे अपने निजी जीवन से कैसे अलग किया जाए।

इसी कारण से वो ONE 165 के लिए अपने ट्रेनिंग कैम्प को पूरा करने के लिए खुद को एकजुट रखने में सक्षम हुए, एक दुखद खबर के बावजूद।

एक और चीज जिसने उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया, वो थी ये विश्वास कि उनके दिवंगत चाचा 28 जनवरी को टकेरु सेगावा पर एक बड़ी जीत के लिए स्वर्ग से उनका हौसला बढ़ा रहे होंगे:

“मेरे चाचा की मृत्यु से मेरी तैयारी पर कोई असर नहीं पड़ा क्योंकि मैं एक ऐसा व्यक्ति हूं जो व्यक्तिगत मामलों को प्रशिक्षण से अलग कर सकता हूं।

 “मुझे विश्वास है कि मेरे चाचा ऊपर से मेरी फाइट को देख रहे होंगे। वो वहां से मेरी सफलता को देखना चाहेंगे।”

इस मैच के महत्व को देखते हुए सुपरलैक को सफल होने के लिए किसी और प्रेरणा की आवश्यकता नहीं थी, लेकिन अपने चाचा की याद में एक यादगार प्रदर्शन करने की उनकी इच्छा इस मुकाबले को और भी अधिक रोमांचक बना देगी।

जब वो टकेरु का सामना जापानी स्ट्राइकर के घरेलू फैंस के सामने करेंगे, तब Kiatmoo9 Gym के प्रतिनिधि शानदार अंदाज में अपनी बेल्ट का बचाव कर एक बड़ी छाप छोड़ना चाहेंगे।

उन्होंने आगे कहा:

“(मेरे चाचा के साथ-साथ) मैं सभी के लिए लड़ूंगा। मैं अपने परिवार और सभी थाई लोगों के लिए लड़ता हूं। मैं इस बेल्ट को थाईलैंड में रखना चाहता हूं।

“इस फाइट के लिए मैं बहुत प्रेरित हूं। मुझे जापान में वहां के टॉप रैंक के फाइटर के खिलाफ अपनी बेल्ट का बचाव करना है। मैं सभी जापानी लोगों को दिखाना चाहता हूं कि मैं उनके हीरो को हरा सकता हूं।

“मैं उन्हें जितनी जल्दी हो सके नॉकआउट करना चाहता हूं। हालांकि मैं जानता हूं कि ये आसान काम नहीं होगा।”

किकबॉक्सिंग में और

Ok Rae Yoon Alibeg Rasulov ONE Fight Night 23 36
Tye Ruotolo Jozef Chen ONE Fight Night 23 32
Kulabdam Sor Jor Piek Uthai Nabil Anane ONE Friday Fights 69 34
OkRaeYoon AlibegRasulov 1920X1280
Kulabdam NabilAnane CeremonialFaceoff 1920X1280
Oumar Kane Marcus Almeida ONE Fight Night 13 95
BoucherKetchup 1200X800
Kulabdam Sor Jor Piek Uthai Wins 1200X800
Oumar Kane Marcus Almeida ONE Fight Night 13 61
Prajanchai PK Saenchai Jonathan Di Bella ONE Friday Fights 68 77
Prajanchai PK Saenchai Jonathan Di Bella ONE Friday Fights 68 48
Suablack Tor Pran49 Kiamran Nabati ONE Friday Fights 68 13 1