लाइफ स्टाइल

आपके बच्चों के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ मार्शल आर्ट

आप पहले से ही जानते होंगे कि मार्शल आर्ट आपके बच्चों में आत्मविश्वास, सम्मान, निष्ठा और सम्मान पैदा कर सकता है। हालांकि, क्या आप जानते हैं कि प्रत्येक मार्शल आर्ट के अपने फायदे भी हैं, जो ऊपर बताए गए लाभों से अलग हैं?

कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अपने बच्चों के लिए कौन सी मार्शल आर्ट चुनते हैं या वो खुद के लिए चुनते हैं। मार्शल आर्ट सीखने से उनको कई शारीरिक और मनोवैज्ञानिक लाभ होंगे।

इस लेख में, आप अपने बच्चों के लिए इन पाँच सर्वश्रेष्ठ मार्शल आर्ट् और पाँच ONE Championship एथलीटों के बारे में जानेंगे, जिन्होंने मार्शल आर्ट की इन विभिन्न शैलियों का उपयोग कर लाभ उठाया है।

तायक्वांडो

Regian Eersel

जब बच्चों के लिए मार्शल आर्ट की बात आती है तो माता-पिता की सूची में सबसे पहला नाम तायक्वांडो का ही आता है। लेकिन इसकी लोकप्रियता के इतर आपके बच्चे इससे और भी लाभ उठा सकते हैं। इसके जरिए आपके बच्चों की मांसपेशियां मजबूत होने के साथ उनमें लचीलापन और संतुलन पैदा होता है।तायक्वांडो के अलग-अलग रूप होते हैं जो शरीर को नियंत्रित करना सीखाते हैं।

डच-सूरीनामिस किकबॉक्सर रेगिअन “द इम्मोर्टल” इरसल केवल 8 साल की उम्र में मार्शल आर्ट सीखना शुरू कर लिया था। उन्होंने मूल रूप से ऊर्जा को जलाने और आत्मरक्षा सीखने के लिए मार्शल आर्ट को अपनाया।

मई 2019 में वो ONE लाइटवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैम्पीयन बन गए।

ब्राज़ीलियाई जिउ-जित्सु

Bibiano Fernandes

ब्राज़ीलियाई जीउ-जित्सु बच्चों के लिए सर्वश्रेष्ठ मार्शल आर्ट् में से एक है। सामान्य तौर पर इसे “जेंटल आर्ट” कहा जाता है। यह बच्चों को ज़मीन पर ग्रैप्लिंग और सब्मिशन करना सीखाता है।

चूँकि छात्रों को यह सीखना होता है कि अपने ट्रेनिंग पार्टनर के साथ टैप करने की कोशिश के दौरान किस तरह सबमिट होने से बचा जाए, बीजेजे आपके बच्चों को धैर्य और समस्या सुलझाने के कौशल विकसित करने में मदद करता है।

ब्राजील के मार्शल आर्टिस्ट बिबियानो “द फ्लैश” फर्नांडीस ने अपनी मां के निधन के बाद कम उम्र में बीजेजे में शुरुआत की। मार्शल आर्ट ने अंततः उनके जीवन को बदल दिया, क्योंकि उन्होंने कई ग्रैप्लिंग और मिश्रित मार्शल आर्ट वर्ल्ड टाइटल जीते। इस मार्च में “द फ्लैश” ने ONE बैंटमवेट वर्ल्ड चैम्पियनशिप को फिर से हासिल कर लिया।

मय थाई

Rodtang Jitmuangnon dances his way to the ring at ONE: DAWN OF HEROES.

मय थाई आपके बच्चों के लिए एक उत्कृष्ट मार्शल आर्ट है। किकबॉक्सिंग के विपरीत जो स्वयं में एक महान आर्ट है, “द आर्ट ऑफ एट लिम्ब्स” के छात्र घुटने, कोहनी, थ्रो, स्वीप और क्लिनिक का बेहतर उपयोग करते हैं।

मय थाई के छात्रों के रूप में, आपके बच्चे आत्म-नियंत्रण सीखते हैं क्योंकि वे नियंत्रण में प्रशिक्षण करते हैं। चूँकि, मार्शल आर्ट में रैंकिंग प्रणाली नहीं है, ऐसे में आपके बच्चे पूर्व निर्धारित लक्ष्यों की ओर काम करने के बजाय व्यक्तिगत लक्ष्य निर्धारित करना सीखते हैं।

थाई एथलीट रोडटैंग “द आयरन मैन” जित्मुआंगनोन ने 7 साल की उम्र में मय थाई में प्रशिक्षण लेना शुरू कर दिया था और उनकी उल्लेखनीय प्रतिभा ने उन्हें अपने परिवार को बेहतर अवसर देने में मदद की और उन्हें अविश्वसनीय ऊंचाइयों तक पहुंचा दिया।

इस महीने की शुरुआत में “द आयरन मैन” खेल के शिखर पर उस समय पहुंच गए जब उन्होंने ONE फ्लाईवेट मय थाई वर्ल्ड चैम्पियनशिप पर कब्जा कर लिया।

रेसलिंग

brandon vera one heavyweight champion

रेसलिंग दुनिया की सबसे पुरानी मार्शल आर्ट में से एक है, क्योंकि इसमें विभिन्न टेकडाउन, लॉक और पिन शामिल हैं। रेसलिंग प्रशिक्षित करने और प्रतिस्पर्धा करने के लिए सबसे कठिन खेलों में से एक है, जिससे बच्चों में बेजोड़ शारीरिक और मानसिक शक्ति पैदा होती है।

फिलिपिनो-अमेरिकी प्रतियोगी ब्रैंडन “द ट्रुथ” वेरा ने कॉलेज में कुश्ती शुरू की और अपने साथ खेल के प्यार को संयुक्त राज्य वायु सेना में ले गए, जहां वह सेना की ग्रीको-रोमन कुश्ती टीम में शामिल हो गए।

“द ट्रूथ” ने अपनी रेसलिंग नींव पर निर्माण जारी रखा और दिसंबर 2015 में उद्घाटन ONE हैवीवेट वर्ल्ड चैम्पियनशिप जीतने के लिए वह आगे बए गए।

मिक्सड मार्शल आर्ट

Martin Nguyen

मिक्स्ड मार्शल आर्ट उन बच्चों के लिए आदर्श है जो अच्छी तरह से वेल राउंडेड मार्शल आर्टिस्ट बनना चाहते हैं। जैसा कि ऊपर वर्णित विषयों के विपरीत है, जो केवल अपनी संबंधित शैलियों पर ध्यान केंद्रित करते हैं। मिश्रित मार्शल आर्ट बच्चों को जमीन पर प्रतिस्पर्धा करने और खड़े होने का तरीका सिखाता है। यह उन्हें और अधिक अच्छी तरह से मजबूत और वास्तविक जीवन की स्थितियों के लिए तैयार करता है।

वियतनामी-ऑस्ट्रेलियाई डायनेमो मार्टिन “द सीटू-एशियन” गुयेन ने 21 साल की उम्र में मिक्स्ड मार्शल आर्ट शुरू किया। देर से शुरुआत करने के बाद भी “द सीटू-एशियन” दो-डिवीजन ONE वर्ल्ड चैंपियन बन गया और उसने खुद को खेल के महान खिलाड़ियों में से एक के रूप में साबित कर दिया।

निष्कर्ष

अपने बच्चों के लिए किसी भी मार्शल आर्ट का फैसला करते समय यह ध्यान रखें कि कोई भी एक मार्शल आर्ट “सर्वश्रेष्ठ” नहीं है। इसके बजाय, अपने बच्चों को एक ऐसे अनुशासन में दाखिला दें जो उन्हें करने में सहज महसूस हो क्योंकि अगर उन्हें कला का अध्ययन करने में मज़ा आता है, तो वे इसके साथ आने वाले कई लाभों को प्राप्त करेंगे।