विशेष कहानियाँ

अपने भाइयों को बेहतर भविष्य देने के लिए कुछ भी करेंगे पेचडम

अगस्त 8, 2019

“द बेबी शार्क” पेचडम पेचैंडी अकादमी ने हमेशा अपने परिवार को कुछ नया देने के लिए प्रतिस्पर्धा की है। माता-पिता और उनके छोटे भाइयों ने हमेशा उनका समर्थन किया है।

ONE फ्लाईवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन जो कि ONE के मुख्य कार्यक्रम ONE: ड्रीम्स ऑफ गोल्ड में इलियास एन्नाहाची के खिलाफ अपनी बेल्ट की रक्षा करने उतरेंगे। वह अपने दो छोटे भाइयों को एक बेहतर भविष्य देने के लिए बेताब हैं और कुछ भी करने को तैयार हैं।

जबकि उनके बड़े भाई-बहन बैंकॉक में प्रतिदिन प्रशिक्षण और प्रतिस्पर्धा करते हुए कड़ी मेहनत करते हैं। जीनोन 17 और रनरगिट 11 को अपने घर गाँव उबोन रतचथानी में पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है जहाँ वे सभी एक साथ बड़े हुए हैं।

थाईलैंड के ग्रामीण पूर्वोत्तर में तीन भाइयों के बचपन की यादें बहुत सुखद है, लेकिन पेचडम ने उस समय को पीछे छोड़ दिया जब वह किशोर अवस्था में थाईलैंड के सबसे प्रतिष्ठित प्रशिक्षण केंद्र पेचैंडी अकादमी में प्रशिक्षण लेते थे। उनके लिए अकेले ही राजधानी में आना व परिवार को छोड़ना बहुत कठिन निर्णय था।

उन्होंने बताया कि “जब तक मैं बैंकाक के लिए नहीं निकला था तब तक मुझे वास्तव में अनुभव नहीं हुआ कि घर छोड़ने का मतलब क्या होता है। कुछ दिनों बाद जब पहली बार रिंग में मुझे मार पड़ी तो वास्तव में मुझे उनकी याद आने लगी थी।

हम वास्तव में बड़े हो रहे थे। हम मछली पकड़ने जाते थे और घर के बने स्लिंगशॉट्स के साथ पक्षियों और छिपकलियों को गोली मारते हैं। यह एक सामान्य देश की परवरिश थी। हमने हमेशा साथ में खूब मस्ती की थी।”

पेचडम का अपने भाइयों के साथ संबंध केवल खेलने तक ही सीमित नहीं था। उन्होंने अपने माता-पिता को अपने भाइयों को सही रास्ते पर रखने में मदद करने की भी पूरी कोशिश की।

Petchdam "The Baby Shark" Petchyindee Academy defeats Elias "The Sniper" Mahmoudi for the ONE Flyweight Muay Thai World Title at ONE: WARRIORS OF LIGHT

मुवा थाई में अपने नवोदित करियर को संतुलित करने के बीच डब्ल्यूबीसी मुवा थाई विश्व चैंपियन ने अपने भाइयों को वो सभी चीजें देने का प्रयास किया, जो उनके पास पहले कभी नहीं थी।

वह कहते हैं कि “मैं उनके होमवर्क के साथ उनकी मदद करता था, और उन्हें हर दिन स्कूल ले जाता था। हम तीनों अपनी बाइक से स्कूल जाते थे। मैं पहले अपने छोटे भाइयों को विद्यालय छोड़ता था और उसके बाद मैं खुद पढ़ाई के लिए जाता था।”

मार्शल आर्ट्स में इतनी कम उम्र में इतनी सफलता हासिल करने के बावजूद और जिस तरह से जेनॉन और रनरगिट ने प्रशंसा के साथ अपने मुकाबलों को देखा है। उससे उन्हें उम्मीद है कि उसके भाई भी उसी तरह के करियर को आगे नहीं बढ़ाएंगे।

वह अपने जीवन और उसमें मिले अवसरों के लिए आभारी है। वह नहीं चाहते कि उनके भाइयों को भी बलिदान, भीषण प्रशिक्षण और चोट
के दर्द को सहना पड़े। वह चाहते हैं कि मेरे भाई अपनी पढ़ाई में वास्तव में बहुत आगे जाएं और उन्हें कोई परेशानी न हो।

उन्होंने कहा कि “मुझे आगे की पढ़ाई करने का मौका नहीं मिला। मेरे माता-पिता इसका खर्च नहीं उठा सकते थे, लेकिन अब जब मैं लड़ रहा हूँ, तो मैं उनकी शिक्षा के लिए भुगतान करने में मदद कर सकता हूँ। मैं वास्तव में चाहता हूं कि वे अपनी पढ़ाई में सफल हों।“

“जीनोन ने पहले सिर्फ स्थानीय स्तर पर लड़ाई लड़ी, लेकिन मैं उनमें से किसी से भी नहीं लड़ना चाहता। मैं नहीं चाहता कि वे आहत हों। यह एक कठिन जीवन है जो एक लड़ाकू है और मैं उनके लिए ऐसा नहीं चाहता।

“मैं उन्हें एक डिग्री पूरी करते हुए देखना चाहता हूं ताकि उन्हें एक अच्छी नौकरी मिल सके। इसलिए मुझे उनके लिए अपनी फाइटें जारी रखना जरूरी है। द बेबी शार्क को दूर रहकर अपने भाइयों की पढ़ाई में मदद करते हैं। वह अपने गहन प्रशिक्षण सत्रों के बीच समय निकालकर घर पर कॉल करते हैं और उनकी पढ़ाई के बारे में जानकारी लेते हैं।”

वह वर्ष में कुछ बार ही घर जा पाते हैं, लेनिक जब भी वह घर जाते हैं तो अपने ज्यादा से ज्यादा अपने परिवार के साथ ही समय बिताना पसंद करते हैं। इसके अलावा उन्हें कुछ भी पसंद नहीं आता है।

भले ही पेचडम The Home Of Martial Arts में एक विश्व चैंपियन है और अगले शुक्रवार, 16 अगस्त को बैंकॉक के इम्पैक्ट एरिना में पहली बार मुख्य कार्यक्रम में प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार है। वह अभी भी अपने परिजनों के साथ सरल चीजों की सराहना करतें है।

वह कहते हैं कि “मैंने अपने भाइयों को फोन पर बताया कि वह माता-पिता की बातें सुने और उन्हें कभी निराश नहीं करें। मैं उनसे हमेशा अपनी पढ़ाई पर ध्यान केन्दि्रत करने व आगे बढ़ने की बात कहता हूं।

जब भी मैं घर जाता हूं तो हमेशा उनकी आदतें बिगाड़ देता हूं। मैं उन्हें अच्छे रेस्तरां में ले जाने के अलावा आउटिंग पर भी ले जाता हूं। कभी-कभी हम घर पर सिर्फ चिल करते हैं और अपने फोन पर खेलते हैं।”

पेचडम को खुशी है कि ONE में उनकी सफलता उनके परिवार की मदद कर सकती है और वैश्विक मंच पर अपने पहले विश्व खिताब की रक्षा में एन्नाहाची के खिलाफ जीत उन्हें आगे उनके भविष्य को सुरक्षित करने में मदद करेगी।

हालाँकि इन सबसे से ज्यादा थाई सुपरस्टार सिर्फ यही चाहता है कि उसके भाई बड़े हों और अच्छी तरह से समायोजित युवा बने। उनके लिए कोई विशेष लक्ष्य नहीं है।बस वह यही चाहते हैं कि उनके भाई आगे चलकर सभ्य नागरिक बनें।

“अभी के लिए, मैं बस उन्हें ड्रग्स और अल्कोहल से दूर रखना चाहता हूं और उनके भविष्य पर ध्यान केंद्रित करना चाहता हूं। मुझे उम्मीद है कि उनके पास अच्छी नौकरियां होंगी, और एक स्थिर आय अर्जित करेंगे।”

बैंकॉक | 16 अगस्त | 5.30PM | ONE: ड्रीम्स ऑफ गोल्ड | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय लिस्टिंग की जाँच करें | टिकट: http://bit.ly/onegold19