विशेष कहानियाँ

भारी कठिनाई के बावजूद डझाबर अस्केरोव ने सफलता के लिए प्रयास करना कभी नहीं छोड़ा

डझाबर “चंगेज खान” अस्केरोव ने जीवन में कभी भी कुछ भी आसान से नहीं किया लेकिन सफल होने के उनके दृढ़ संकल्प ने उन्हें उन कठिनाइयों को दूर करने में मदद की है जो ज्यादातर लोगों को उनकी सफलता की राह में रोक देती थीं।

रूसी नॉकआउट कलाकार जो इस शुक्रवार 16 अगस्त को सैमी “एके 47” सना का ONE: ड्रीम्स ऑफ गोल्ड में सामना करेंगे। गरीबी और दिल तोड़ने वाली पारिवारिक त्रासदी से पीड़ित होने के बावजूद वह अपने लक्ष्यों से कभी नहीं हटे।

मार्शल आर्ट के माध्यम से उन्होंने अपने अंदर एक योद्धा की भावना विकसित की और एक सफल एथलीट बन गए। अब वह ONE फेदरवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड ग्रैंड प्रिक्स फाइनल से सिर्फ एक मैच दूर हैं।

आस्करोव के दिवंगत पिता जानते थे कि मार्शल आर्ट उनके बेटे के लिए बेहतर जीवन का मार्ग है, भले ही उन्हें शुरुआती प्रशिक्षण में कोई दिलचस्पी नहीं थी। उनका परिवार गरीब था, लेकिन उनके पिता ने तय किया कि वह अपने बच्चों को अभ्यास के लिए भेज सकते हैं। उन्होंने एक रूपरेखा तैयार की और सुनिश्चित किया कि वो स्कूल के बाद अभ्यास का एक सत्र कभी नहीं चूके।

जूडो, मुक्केबाजी, कुश्ती और मय थाई ने उसे करियर बनाने के लिए कौशल दिया। इसके साथ उसके चरित्र का भी निर्माण किया। इस तथ्य का जानते हुए भी कि उसके पास अपनी ज़रूरत के सभी सही उपकरण खरीदने के साधन नहीं थे।

हालांकि यह उनकी युवावस्था का सिर्फ एक और पहलू था जिसने एक मजबूत मानसिकता को ढालने में मदद की। अपने नुकसान के बावजूद वह कभी परेशान नहीं हुआ। उसने खुद को प्रशिक्षण के लिए समर्पित कर दिया।

वह याद करते हुए कहते हैं कि “मुझे अपने बड़े भाई के जूडो किमोनो को कुश्ती की क्लास में पहनना था। मैंने अपने हाथों को कभी भी मुक्केबाजी में सही तरह से इस्तेमाल नहीं किया इस कारण मेरे दस्ताने के पोर अब पूरी तरह से टूट गए। जिम में 40 बच्चों में से केवल 10 के पास मुक्केबाजी के दस्ताने थे। हम सबसे सस्ता ब्रांड भी नहीं खरीद सकते थे। इसलिए मैंने मुक्केबाजी अभ्यास के लिए गद्देदार सर्दियों के दस्ताने का इस्तेमाल किया। जब आप एक बच्चे होते हैं तो आप बस दिए गए के रूप में अपने जीवन की परिस्थितियों को स्वीकार करते हैं। इसी के साथ इसके साथ घूमते रहते हैं।”

अपने सभी अभ्यास के माध्यम से “चंगेज खान” ने शीर्ष-श्रेणी की क्षमता दिखाना शुरू कर दिया लेकिन जब वह 15 वर्ष के थे तो अपने पिता की मृत्यु के गम को दूर करने के लिए उन्हें और भी अधिक ताकत दिखानी पड़ी।

हालांकि यह उसके एक अत्यंत भावनात्मक झटका था लेकिन त्रासदी ने वास्तव में इस किशोर एथलीट को खुद को आगे बढ़ाने और सफलता प्राप्त करने के संकल्प को मजबूत किया।

उसने बताया कि “जब मेरे पिताजी गुजर गए तो मैं तबाह हो गया। अचानक से मुझे मार्गदर्शन और अनुशासन की राह दिखाने वाला कोई नहीं था। अब मुझे खुद को आगे बढ़ने की कोशिश करनी पड़ी। मेरे पिता ने उसके प्रशिक्षण में अपने सपने, अपने दिल और आत्मा को इतना समर्पित कर दिया था कि मैं उनकी मृत्यु के बाद खुद को रोक नहीं सका।”

अस्केरोव की प्रतिस्पर्धा से बेहतर बनने की इच्छा ने उन्हें 19 साल की उम्र में एकतरफा टिकट पर थाईलैंड की यात्रा करने का साहस दिया। वह चार दोस्तों के एक समूह में शामिल हो गया जो पहले से ही वहां रहकर प्रशिक्षण ले रहे थे लेकिन “द लैंड ऑफ स्माइल्स” हमेशा किशोरों के लिए एक खुशहाल जगह नहीं थी।

वे बताते हैं कि “मुझे इसे बड़ा बनाने की उम्मीद थी लेकिन पहले तो मैं एक किराये से दूसरे स्थान पर गया। दूसरा मुख्य रूप से चावल और पानी पर जीवित रहना। वजन बनाए रखने की चिंता के बावजूद मैंने बहुत सारा कार्बोहाइड्रेड खाया। शिकायत करना उसके स्वभाव में कभी नहीं थी। खासकर जब उन्होंने देखा कि स्थानीय लोगों की तुलना में वे कितने भाग्यशाली थे।

उदाहरण के लिए थाईलैंड में अपने पहले वर्ष के दौरान अस्केरोव के पास केवल एक जोड़ी चलने वाले जूते थे जो धीरे-धीरे टूट रहे थे लेकिन जब उन्होंने देखा कि कैसे उनके थाई साथियों ने खुद को ढोया तो उन्हें इस बात की कोई चिंता नहीं थी।

वह बताते हैं कि “मैंने विकासशील दुनिया में एथलीटों को देखा और अजीबो-गरीब परिस्थितियों में प्रशिक्षण लिया लेकिन मुस्कुराहट के साथ जीवन बिता रहा था। मेरे लिए यह आसान नहीं था लेकिन दूसरों के पास मुझसे भी बहुत बुरा था। मैं एक नई जोड़ी जूते खरीदने के लिए तैयार नहीं था। इसने मुझे परेशान कर दिया लेकिन जल्द ही मैंने स्थानीय युवा फाइटरों को देखा जो नंगे पैर सड़कों पर 10 किलोमीटर चल रहे थे। मुझे एहसास हुआ कि मेरी स्थिति इतनी खराब नहीं थी। इसने मुझे अहसास कराया कि मेरे पास जो कुछ भी था उसके लिए आभारी हूं।”

डागेस्टैन मूल निवासी थाईलैंड में चला गया था ताकि वह अपना नाम रोशन कर सके और अपने परिवार को घर भेजने के लिए कुछ पैसे कमा सके लेकिन जब उसने प्रतिस्पर्धा की तो उसे और भी अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ा।

हालांकि पूर्व में चले जाने पर उनके रिकॉर्ड में केवल सात पेशेवर मुकाबले हुए। अस्केरोव को अक्सर खतरनाक मुकाबलों के लिए चुना गया था लेकिन वह ऊपर बढ़ने और नकद कमाने के लिए बेताब थे। इसलिए उन्होंने किसी अवसर को जाने नहीं दिया।

उन्होंने कहा कि “वेतन कम था लेकिन मुझे पैसे की जरूरत थी, और जो कोई भी मुझे ऑफर किया गया मैं उससे लड़ने के लिए तैयार था। मुझे अक्सर बहुत अनुभवी विरोधियों के खिलाफ उतारा जाता था। जब मैं हर हफ्ते लड़ता था तब भी पैसे की स्थिति बहुत खराब रहती थी। मैं भेड़ियों के सामने फेंके गए एक भेड़ के बच्चे की तरह था! मुझे तीन हफ्तों में पांच बार लड़ना याद है- एक बार 39.6 डिग्री बुखार के साथ। मेरा चेहरा मुंह के छालों में ढंका हुआ था, यह उन्माद था।”

Dzhabar Askerov defeats Enriko Kehl via decision in the ONE Super Series Featherweight Kickboxing World Grand Prix at ONE: ENTER THE DRAGON in Singapore

“चंगेज खान” अक्सर घायल होकर रिंग से बाहर निकलता था लेकिन किसी के मार्गदर्शन के बिना वह खुद को गहरे अंधकार में धकेल देता। उनका मानना ​​है कि हार से हुए नुकसान के कारण उन्हें अपना करियर को धरातल पर लाने में काफी समय लग गया लेकिन उन्होंने अपने पूरे जीवन के लिए जो मानसिकता विकसित की थी, जिसका मतलब था कि उनकी असफलताओं ने उन्हें कभी मैदान नहीं छोड़ने दिया।

अस्केरोव ने दृढ़ता से काम किया और आखिरकार उन्होंने एक प्रभावशाली रिकॉर्ड बनाना शुरू कर दिया- जो अब 108-35-2 पर पहुंच गया है। वह चार बार किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन बन गया। अब उसे कोई संदेह नहीं है कि वह सभी तरह से ONE चैम्पियनशिप के यूएस $ 1 मिलियन वर्ल्ड ग्रांड पि्रक्स को जीत सकता है।

वे कहते हैं कि “इसने मेरे चरित्र का निर्माण किया है। मैं 19 साल की उम्र में अपने परिवार से आर्थिक रूप से स्वतंत्र हो गया। मैंने जल्द ही कुछ पैसे घर वापस भेजने शुरू कर दिए। मार्शल आर्ट ने मुझे अपने और अपने परिवार के लिए जिम्मेदारी महसूस कराई। इसने मुझे एक सही आदमी बना दिया।”

बैंकॉक | 16 अगस्त | 5PM | ONE: ड्रीम्स ऑफ गोल्ड  | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय सूची का अवलोकन करें| टिकट: http://bit.ly/onegold19

Special Banner For ONE Championship Merchandise