समाचार

हिरोकी अकीमोतो ने कैनी से पर दर्ज की बेहतरीन जीत

जुलाई 27, 2019

WFKO कराटे विश्व चैंपियन हिरोकी अकीमोतो ने वादा किया था कि वह शुक्रवार, 12 जुलाई को ONE: मास्टर ऑफ डेस्टीनी में जीत के अलावा कुछ भी वापस नहीं लेगा और वह अपने शब्दों पर कायम रहा।

मलेशिया के कुआलालंपुर में एक्सिटा एरिना में तीन राउंड की फाइट के बाद ऑस्ट्रेलिया के केनी “द पिटबुल” टीएस पर सर्वसम्मत निर्णय की जीत हासिल करने के लिए इवॉल्व प्रतिनिधि की घातक किक और घुटने ही पर्याप्त थे।

कैनी ने हार्ड सुपर किक के साथ ONE सुपर सीरीज किकबॉक्सिंग फ्लाईवेट प्रतियोगिता की शुरुआत की और उन्होंने अपने जापानी विरोधी को

अपनी तीव्रता लाने के अपने इरादे का संकेत दिया। अकीमोतो की रणनीति शुरुआती क्षणों से भी स्पष्ट थी, क्योंकि उसने अपनी बॉडी को बाईं किक के साथ लक्ष्य हासिल करने का संकेत दिया था।

24 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई ने कुछ “नई योजना” दिखाने का वादा किया था और उन्होंने ऐसा करने का प्रयास भी किया। उन्होंने तुरंत बॉडी किक को पकड़ने और स्पिनिंग बैक पंच के साथ मुकाबला करने की कोशिश की। इससे उनकी फाइट को एक नया स्तर मिला।

हालांकि, यह उनका सामान्य फॉरवर्ड दबाव और उच्च मुक्केबाजी का उत्पादन था जिसने उन्हें शुरुआती राउंड में सबसे अधिक सफलता दिलाई। उन्होंने ऊपरी हुक का बेहतरीन उपयोग किया। जबकि अकीमोतो ने अपने बाएं घुटने और पिंडली से फाइट जीतने का लक्ष्य निर्धारित किया।

“पिटबुल” ने डर्टी बॉक्सिंग रेंज में आने के लिए दो राउंडों में आगे बढ़ना जारी रखा। उन्होंने बाएं हुक और दाएं अपरकेस के साथ आग लगा दी, लेकिन उनके जापानी प्रतिद्वंद्वी ने अपने अपर घुटने का उपयोग उनके पेट पर किया।

बाहर की ओर से कैनी को ओवरहैंड राइट का मार्क मिला। हालांकि, अकिमोतो अपने पंचों को और अधिक मजबूत करने के लिए उत्सुक था और विरोधी के शरीर तक पहुंचने के लिए किक का उपयोग किया।

दोनों एथलीटों ने समय खत्म होने को देखते हुए कुछ बेहतरीन दांव पेच दिखाए किया, लेकिन उनके बीच ज्यादा देर का समय नहीं बचा था। ऑस्ट्रेलियाई ने ताकतवर राइट लो किक के साथ धावा बोला और फिर उनके करीब पहुंचने पर अपने हाथों को खोल दिया।

मेलबर्न मूल के योद्घा को उठाने के लिए अकीमोतो का एजेंडा स्पष्ट था और उन्होंने अपने झुके हुए बांए घुटने से विरोधी की पसलियों पर वार किया। उन्होंने पंचों से भी हमला जारी रखा, लेकिन कैनी के मजबूत शरीर ने उसे सुरक्षित रखा।

“पिटबुल” ने रिंग को बंद करने के लिए लगातार हुक व किक्स बरसाने का प्रयास किया, लेकिन वो मार्क से दूर रह गए। इसके बाद दोनों एथलीट यह भरोसा करते हुए अपने-अपने कोनों में वापस चले गए कि उन्होंने जीत हासिल करने के लिए बेहतरीन प्रयास किया है।

अंत में रिंग में मौजूद रैफरियों ने जापानी हीरो के पक्ष में एक सर्वसम्मत निर्णय देकर उन्हें विजेता घोषित कर दिया। इस जीत ने अकीमोतो के पेशेवर रिकॉर्ड को 21-1 कर दिया।