विशेष कहानियाँ

क्यों एक चुनौती से जोसेफ लासिरी कभी पीछे नहीं हटेगा ?

सितम्बर 4, 2019

जोसेफ “द हरिकेन” लासिरी के लचीलेपन ने उन्हें रिंग के अंदर और बाहर दोनों जगह जीवन का मार्गदर्शन करने में मदद की है।

डब्ल्यूबीसी मय थाई विश्व चैंपियन मोंगकोलपेच पेटचीइंडी एकेडमी के खिलाफ अगले शुक्रवार 16 सितम्बर को हो ची मिन्ह सिटी, वियतनाम में ONE: इम्मोर्टल ट्राइंफ मुकाबला होगा और उसकी आंतरिक सहन-शक्ति उसकी सफलता के लिए महत्वपूर्ण होगी।

लासिरी का मानना ​​है कि यह एक विशेषता है जो उसके स्वभाव के प्रत्येक सूत्र में शामिल है। इसलिए यह उसे कभी निराश नहीं करेगा। वो बातते हैं कि “किसी ने मुझे नहीं बताया कि कैसे लचीला होना चाहिए या लचीलेपन का क्या महत्व। मुझे लगता है कि लचीलापन और जिगर ईश्वर की देन हैं और वो मुझमें जन्मजात हैं।”

“एक उद्धरण है जो मुझे याद है जो कहता है कि जीवन में, ‘यह इस बारे में नहीं है कि आप कितना मुश्किल हिट करते हैं। यह इस बारे में है कि आप आगे बढ़ने के लिए कितना मुश्किल हिट कर सकते हैं। यह हर किसी के लिए सलाह का एक शक्तिशाली हिस्सा है जो जिंदगी में सफलता चाहता है।”

Joseph Lasiri defeats Hiroki Akimoto at ONE: A NEW ERA

ONE सुपर सीरीज में उसके प्रेरणादायक प्रदर्शन से पहले मिलान मूल निवासी को जीवन में काफी मुश्किल वक्त भी देखना पड़ा लेकिन इन कठिनाइयों ने उसके सपनों को पूरा करने की राह में रोड़ा नहीं डाला।

खेल की सफलता को लेकर उन्हें दूसरे लोगों के संदेह को दूर करना था। उन्होंने इसे “द आर्ट ऑफ एट लिम्बस” में अपने प्रशिक्षण के लिए प्रेरणा के रूप में इस्तेमाल किया। यह उनकी दृढ़ता के लिए एक प्रारंभिक आदेश था। हालांकि उनकी सबसे बड़ी बाधा दूसरे रूप में सामने आई थी।

जब उनके परिवार को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ा तो लासिरी ने मदद करने के लिए प्लेट तक आगे बढ़ाई। उनके माता-पिता काम के लिए बाहर चले गए और बिलों के भुगतान करने के लिए संघर्ष कर रहे थे। इसलिए “द हरिकेन” ने लंदन, इंग्लैंड जाने का कदम उठाया- जहां वह घर से दूर और भाषा की कोई समझ नहीं रखता था।

उसने बताया कि “मैं 2014 में लंदन चला गया। मुख्य रूप से खुद को चुनौती देने और वहां से अपने परिवार की मदद करने के लिए मैंने यह फैसला किया। विदेश में रहना और काम करना आसान नहीं है। आप कई असुविधाओं का विभिन्न अनुभवों के साथ सामना कर रहते हैं, जैसे अकेला रहना, अलग-थलग और भाषा बाधाओं का सामना करना।”

“इस कारण से मेरे लिए यह अनुभव सही नहीं था लेकिन मैंने विपत्ति को दूर करने और हर बार असफल होने के बाद फिर से खड़े होने के लिए बहुत कुछ सीखा। अपने डर का सामना खुदे को मजबूत बनाने के एक मौके के रूप में किया।”

लासिरी ने अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए एक पिज़्ज़ा रेस्टोरेंट में काम किया। यहां वह अपने सहकर्मियों के साथ इतालवी और कुछ अरबी भाषा बोल सकता था लेकिन उसकी अंग्रेजी की समझ सीमित थी।

Joseph Lasiri defeats Hiroki Akimoto at ONE: A NEW ERA

जब वह ब्रिटेन में था तो वह मार्शल आर्ट में अपनी महत्वाकांक्षाओं को बनाए रखना चाहता था। इसलिए वह प्रसिद्ध टीम टिओ में शामिल हो गया और अपने प्रशिक्षण में ज्यादा व्यस्त हो गया। इससे उसे स्थानीय लोगों के साथ संवाद करने में मदद मिली।

वह अपने प्रशिक्षण साथियों के साथ जुड़ना चाहता था। इसलिए उन्होंने नई भाषा सीखने के लिए कड़ी मेहनत की जब उन्हें पूरा प्रशिक्षण दिया गया। मार्शल आर्ट्स के एकीकृत गुणों के साथ उनके अतिरिक्त प्रयासों के कारण वह जल्द ही अपने साथियों के साथ सही से शामिल हो गए।

“मुझे अंग्रेजी सीखना था ताकि क्लाइंट के साथ अच्छे से संवाद करने में सक्षम हो सकूं लेकिन अंग्रेजी सीखने के लिए असली प्रेरणा मय थाई के नोट्स थे। जब मैंने नए जिम में प्रशिक्षण शुरू किया तो मैं चाहता था कि अन्य सभी एथलीट मुझे बेहतर तरीके से जानें। इसलिए मुझे भाषा सीखनी होगी।”

“एक नए जिम में प्रवेश करना और वहां प्रशिक्षण ले रहे अन्य सभी पेशेवर फाइटर्स का सम्मान हासिल करना मुश्किल था। मुझे इसके लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी लेकिन जब उन्होंने मुझे बेहतर तरीके से जानना शुरू किया तो उन्होंने मुझे स्वीकार कर लिया और मुझे अपने परिवार के सदस्य की तरह माना।”

“उन्होंने मुझे अपने घर से दूर एक दूसरा घर दिया। उस दौरान मुझे एक प्रशिक्षण परिवार देने के लिए मैं टीम टियू का हमेशा आभारी रहूंगा।” लासिरी ने जिम में अपना विकास जारी रखा। जरूरत पड़ने पर अपने परिवार की मदद की और कठिन परिस्थितियों में अपने चरित्र को मजबूत बनाया।

Joseph Lasiri defeats Hiroki Akimoto at ONE: A NEW ERA

जब 28 वर्षीय घर लौटा और अपने मार्शल आर्ट करियर को आगे बढ़ाने के लिए वह रिंग में वापस आया तो उसने हिस्सा चुकाया। लासिरी कहता है कि “जीवन में कई कठिन परिस्थितियों का सामना करना आपको मजबूत बनाता है।”

“मैं किसी भी स्थिति को स्वीकार करने और उसके अनुकूल होने में सक्षम हूं। इसका मतलब यह नहीं है कि मैं घटनाओं या समस्याओं की तीव्रता को महसूस नहीं करता हूं। मैं हमेशा इससे निपटने के लिए एक अच्छा तरीका खोजने की कोशिश करता हूं।”

“यह मार्शल आर्ट में बिल्कुल वैसा ही है- जो आपको एक महान फाइटर बनाता है। जो मजबूत विरोधियों का सामना करने और उन्हें मुश्किल में डालने का रास्ता खोजने की ताकत है।”

“द हरिकेन” को दुनिया के कुछ बेहतरीन स्टैंड-अप मार्शल कलाकारों से सबसे कठिन प्रहार मिले हैं लेकिन इसके बाद उन्होंने विरोधियों को हिलाकर रखने वाली क्षमता दिखाते हुए बुरी तरह से बाहर किया है।

द होम ऑफ मार्शल आर्ट्स में सबसे कठिन प्रतियोगिता के खिलाफ मुकाबलों को स्वीकार करने से कुछ असफलताओं ने उन्हें नहीं रोका। जब वह परेशान हुए तो उन्होंने हिसाब भी चुकता किया। जब वह मार्च में ONE: ए न्यू ऐरा पर जापानी एथलीट हिरोकी अकीमोतो से उनकी स्थानीय भीड़ के सामने डब्ल्यूएफकेओ कराटे विश्व चैंपियन में अपराजित रहा।

इटालियन जानता है कि उसे उसी धैर्य से काम लेना होगा जिसने उसे तीन राउंड में जीत दिलाई थी जब वह फुओ थाऊ इंडोर स्टेडियम में मोंगकोलिपेट के खिलाफ उतरा था लेकिन यह एक ऐसी चीज है जो उसे कभी भी विफल नहीं होने देगी।

Joseph Lasiri defeats Hiroki Akimoto at ONE: A NEW ERA

लासिरी कहते हैं कि “केवल लचीलापन महत्वपूर्ण नहीं है- यह मौलिक है। मार्शल आर्ट्स में आपको कठिन प्रशिक्षण और कठिन विरोधियों का सामना करने के लिए लचीलापन चाहिए और थकने और कमजोर होने पर भी आगे बढ़ने के लिए जिगर चाहिए।”

“मेरा अगला प्रतिद्वंद्वी एक मजबूत है। मैं रिंग में उतरूंगा और काम पूरा करूंगा। इस आगामी लड़ाई में मैं केवल उसी दिशा का अनुसरण करूंगा जिसे मैं जानता हूं! ”

हो ची मिन सिटी | 6 सितम्बर| 5.30PM | ONE: इम्मोर्टल ट्राइंफ | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय सूची का अवलोकन करें | टिकट: http://bit.ly/oneimmortal19