विशेष कहानियाँ

मुवा थाई ने वाल्टर गोंकाल्वेस को अंधेरों से निकाला बाहर

सितम्बर 24, 2019

वाल्टर गोंकाल्वेस का जीवन ब्राजील की बेहद खराब झुग्गियों में शुरू हुआ था, लेकिन सफलता के लिए उनकी मेहतन व दृढ संकल्प उन्हें दुनिया के सबसे बड़े मार्शल आर्ट संगठन तक खींच लाई।

21 वर्षीय सनसनी जापान के टोक्यो में ONE: CENTURY PART II पर ONE फ्लाईवेट मुवा थाई वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए रोडटंग “द आयरन मैन” जित्मुआंगनोन को चुनौती देंगे और यह मौका उनकी गरीबी से अंतर्राष्ट्रीय स्टारडम तक की उनकी यात्रा की बानगी होगा।

गोंकाल्वेस रविवार, 13 अक्टूबर को ऐसे मंच पर पहुंचेंगे, जहां वह अपनी परवरिश के दम पर वहां नहीं पहुंच सकते थे। क्योंकि वह इतिहास की सबसे बड़ी मार्शल आर्ट प्रतियोगिता में लाखों लोगों के सामने प्रदर्शन करेंगे।

रयोगोकू कोकुगिकन में रिंग में अपना कदम रखने से पहले गोंकाल्वेस ने खुलासा किया है कि कैसे उन्होंने अपनी कमजोर शुरुआत को वैश्विक स्तर पर सफल शुरुआत में तब्दील किया है।

गरीबी में बीता बचपन

गोंकाल्वेस का जन्म ब्राज़ील के फोर्टालेज़ा में हुआ था और वह अपने माता-पिता और छोटे भाई के साथ पले-बढ़े थे। अधिकांश हिस्से के लिए वह एक खुशहाल बचपन था।

जब वह छोटे थे तो वह सिर्फ दोस्तों के साथ घूमना पसंद करते थे। वह सिर्फ बच्चों के साथ उस गरीब व सुविधा विहिन जगह से बाहर रहना चाहते थे। उन्हें पतंग उड़ाना व फ़ुटबॉल खेलना पसंद था।

हालांकि, इन गरीब इलाकों में कई लोगों के लिए, बस जीवित रहना कभी-कभी एक चुनौती थी।

उन्होंने याद करते हुए कहा कि वह परिवार के साथ उनका सबसे बड़ी मुश्किल समय था। वह मेज पर खाना नहीं खाते थे और उनके पास चावल या अन्य चीजें खाने के लिए सॉस भी नहीं होता था।

जैसे-जैसे गोंकाल्वेस बड़े हुए तो उनके परिवार की स्थिति की वास्तविकता घर पर आने लगी। उन्होंने महसूस किया कि अगर वह उन्हें गरीबी से बाहर निकालना चाहते हैं, तो उन्हें सड़कों पर अपना समय बिताने की तुलना में कुछ काम करना होगा।

मेहतनी व स्वप्न केन्दि्रत तीन बार के मुवा थाई विश्व चैंपीयन ने बताया कि उनका संघर्ष ही उनके बड़े उद्देश्य को पूरा करने के लिए प्रेरणादायक थे। वो संघर्ष ही उन्हें प्रेरित करते और बताते थे कि वो कौन है।

वह फिर से उस दुनिया में नहीं जाना चाहते हैं। वह अब अपने परिवार को गारंटी दे सकते हैं कि वह अपना और परिवार का जीवन बदलने जा रहे हैं।

गंदी बस्तियों का रास्ता

गोंकाल्वेस का मानना ​​था कि उनका सबसे अच्छा मार्ग मार्शल आर्ट के माध्यम से था। उनके पिता असीस, 5 वर्ष की आयु में उन्हें अपनी पहली कराटे कक्षा में ले गए, लेकिन उन्होंने जल्द ही कोडे को मुवा थाई में बदल दिया। जहाँ उनका प्रतिस्पर्धी स्वभाव वास्तव में पोषित हो सकता था।

उन्होंने बताया कि जब उन्होंने मुवा थाई शुरू किया तो वह उन्हें सबसे ज्यादा पसंद आया। उन्हें हमेशा से ही चुनौतियां पसंद रही है। अपने प्रतिस्पर्धी करियर की शुरुआत करने के लिए गोंकाल्वेस को रस्सियों से आगे बढ़ने में देर नहीं लगी। जब उन्होंने देखा कि वह रिंग में क्या हासिल कर सकता है और तो वह उनकी सफलता का एक संभावित रास्ता बन गया।

उन्होंने बताया कि उनकी पहली फाइट टाई रही थी। वह जीते नहीं थे, लेकिन यह एक ऐसा अनुभव था जिसने उन्हें एहसास कराया कि उन्हें प्रतिस्पर्धा करना पसंद है।

जब उन्होंने पहली फाइट लड़ी थी तब वह महज 8 साल के थे। उस समय उन्हें महसूस हुआ कि वह उस दुनिया का हिस्सा थे। उस क्षण उन्होंने खुद से कहा कि वह तब तक लड़ते रहेंगे तब तक की वह जीत हासिल नहीं कर लेते।

पहली जीत मिलने के बाद उन्होंने सोचा था कि वह अपने परिवार की मदद करने की कोशिश करेंगे। उन्होंने देखा कि वह कुछ बन सकते हैं।वह एक बड़ी चुनौती की तलाश कर सकता है। वह अपना नाम और अपना करियर भी बना सकते हैं। जब उन्होंने प्रतिस्पर्धा शुरू की तो देखा कि वह बेल्ट जीतकर अपना जीवन बदल सकता हैं। जैसे वह अब टोक्यो में करेंगे।

मुवा थाई के घर का शीर्षक

खेल की जनक भूमी में अपने विकास को जारी रखने के लिए गोंकाल्वेस थाईलैंड की यात्रा पर जाने से पहले ब्राज़ील में रैंकों के माध्यम से आगे बढ़े।

ब्लैकथाई सीटी, एंडरसन डेंटाओ में अपने पिता और अपने कोच के समर्थन के साथ, वह “द आर्ट ऑफ एट लिम्बस” की ओर चले गए और फुकेत में सिट्सोन्गोपेनॉन्ग में बस गए।

ONE फ्लाईवेट वर्ल्ड टाइटल के दावेदार ने जल्दी ही एक ताकतवर प्रतियोगी के रूप में अपनी प्रतिष्ठा बनाई तथा 65-5 का प्रभावशाली रिकॉर्ड बनाते हुए कई विश्व टाइटल अपने नाम किए।

उनके कोच हमेशा एक दिन उनके विश्व चैंपियन बनने की बात कहते थे और उन्हें भी हमेशा इस पर विश्वास था। जब तक उनका समय नहीं आया तब तक वह प्रशिक्षण लेते रहे।

यह सपना उन्होंने सफलतापूर्वक पूरा किया। इसके लिए वह भगवान व अपने परिवार का धन्यवाद देते हैं। उनके पिता ने हमेशा उनकी मदद की, और कोच एंडरसन डेंटाओ ही थे जिन्होंने उन्हें अपना सपना हासिल करने के लिए थाईलैंड में बनाए रखा।

यद्यपि वह थाईलैंड में प्रतिष्ठित बेल्ट जीतकर बहुत खुश थे, लेकिन 21 वर्षीय फाइटर को पूरी संतुष्टि नहीं हुई। उनकी सफलता के साथ उनके लक्ष्य भी बढ़ गए और अब उन सभी की सबसे बड़ी बेल्ट पर उनकी नजर है।

वह एक ऐसा बच्चा थे जो झुग्गी बस्ती से आया था और अब विश्व खिताब जीत रहा है। उन्हें एहसास हुआ कि वह अपनी ताकत और विश्वास के साथ बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं।

ONE सुपर सीरीज में भविष्य का निर्माण

गोंकाल्वेस के पास अब मार्शल आर्ट के सबसे बड़े मंच पर अपने कौशल का प्रदर्शन करने का मौका है, जो वन सुपर सीरीज में हैं। इसके अलावा उनके पास दुनिया के सबसे बड़ी मार्शल आर्ट संगठन के सबसे शानदार इवेंट ONE: CENTURY भी है।

वह सीधे फ्लाईवेट राजा रोडटैंग के खिलाफ शीर्ष पर जाएंगे, जिनके पास अधिक अनुभव है और द होम ऑफ मार्शल आर्ट्स में बेहतरीन रिकॉर्ड है।

उनसे मुकाबले में ब्राजीलियन को कोई नुकसान नहीं होगा। उन्होंने अपने जीवन में बाधाओं पर काबू पाने की आदत बना ली है और यह उनके लिए अपने आप को साबित करने का एक और मौका है।

उन्होंने कहा कि वह दुनिया के सामने साबित करेंगे कि यदि सपने देखने वाला व्यक्ति दृढ़ संकल्प रखता है तो वह कुछ भी कर सकता है।वह दुनिया के सबसे बड़ी इवेंट में फाइट करने जा रहे हैं। इसमें वह दुनिया और ONE बेल्ट पर कब्जा जमाएंगे।

ब्लैकथाई सीटी एथलीट सिर्फ अपने लिए ही प्रतिस्पर्धा नहीं कर रहे हैं। वह अपने परिवार और कोच से भी प्रेरित है। जिन्होंने उनके हर कदम व निर्णय में पूरा साथ दिया है।

उन्होंने कहा कि पूरा समर्थन करने, प्रेरित करने व हमेशा सहाल देने के लिए वह अपने पिता के आभारी हैं। उन्होंने ही मुझे उस आदमी के हाथों में दिया था जिसने आप उनकी जिंदगी को पूरी तरह से बदल दिया और वह आदमी काई और नहीं बल्कि उनके कोच एंडरसन डेंटाओ है।

टोक्यो | 13 अक्टूबर | ONE: CENTURY | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय लिस्टिंग की जाँच करें | टिकट: https://onechampionship.zaiko.io/e/onecentury

ONE: CENTURY इतिहास की सबसे बड़ी विश्व चैम्पियनशिप मार्शल आर्ट प्रतियोगिता है जिसमें 28 विश्व चैंपियनशिप विभिन्न मार्शल आर्ट शैलियों का प्रदर्शन करेंगे। इतिहास में किसी भी संगठन ने कभी भी एक ही दिन में दो पूर्ण पैमाने पर विश्व चैम्पियनशिप इवेंट आयोजित नहीं किए हैं।

13 अक्टूबर को जापान के टोक्यो में प्रसिद्ध रोयोगोकू कोकूगिकन में कई वर्ल्ड टाइटल मुकाबलों, वर्ल्ड ग्रां प्रिक्स चैंपियनशिप फाइनल की एक तिकड़ी और कई वर्ल्ड चैंपियन बनाम वर्ल्ड चैंपियन मैच लाने के साथ The Home Of Martial Arts नई जमीन पर दस्तक देगा।